आवास के बदले बीस हजार रूपये मांगने का आरोप, दिया धरने पर बैठने की चेतावनी

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

मुजेहना : गोंडा

पक्के मकान वालों को पी. एम. आवास, मिट्टी के घर में रहने वालों को नही मिला लाभ !

ब्लॉक क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत बेसहुपुर के ग्राम प्रधान व सिकरेटरी की मिली भगत से सरकारी योजनाओं में बंदरबांट की कहानियाँ पहले भी सुनी जा चुकी हैं, चाहे वो मनरेगा में लाखों रूपयों का घपला करने की रही हो या पशु टीन शेड वितरण, इंटरलाकिंग, शौचालय के लिए दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि, पंचायत भवन का कायाकल्प, गाँव में स्ट्रीट लाइट, लगवाने जैसे विभिन्न विकास परक कार्य योजनाओं में गड़बड़ियां मिलने की शिकायतों का अम्बार पहले से ही लगा हुआ है, बिडम्बना ये है की शिकायतों की जांच और उस पर अधिकारियों की कार्यवाही में शिथिलता बरतने की वजह से, सम्बंधित लोगों की मनमानी बे रोक टोक चल रही है, इसी कड़ी में अब बेसहुपुर के ग्राम सभा पंडित पुरवा में कई अपात्र व्यक्तियों को जिनका पक्का मकान बना है,चौपहिया दुपहिया वाहन है,लम्बी खेती पाती है ऐसे दर्जनों लोगों को प्रधान मंत्री आवास प्रदान किया गया है, जिसकी पहली क़िस्त भी जारी की जा चुकी है ! ग्रामीणों ने जब इस बात की छानबीन की, किन लोगों को आवास मिला अथवा किन लोगो न नही मिला, तो ऐसो परिवारों के नाम का खुलासा हुआ जो अपात्र हो कर भी इस योजना से लाभान्वित किये गए उधर गाँव के ही कई ऐसे परिवार भी हैं जिनका मिट्टी का कच्चा मकान बना है, कुछ ऐसे लोग भी है जो पन्नी तान कर अपना गुजर बसर कर रहे है, उन परिवारों से बात चीत में पता चला की आवास के बदले बीस हजार रूपये की मांग पूरी ना कर पाने की वजह से पात्र होते हुए भी प्रधान मंत्री आवास योजना की सूची से हटा दिया गया है !

जमीरुल निशा पत्नी नूर मोहम्मद, सुनीता देवी पत्नी रज्जन, रकीबुन निशा पत्नी हाकिम अली, देवी प्रसाद पुत्र तुला राम इत्यादि लोगों ने समाधान दिवस में शिकायती पत्र दे कर आरोप लगाया है की ग्राम प्रधान, सिकरेटरी, तथा रोजगार सेवक आवास के बदले बीस हजार की मांग किये जिसे ना दे पाने की स्थिति में आवास की सूची से नाम काट दिया गया जबकि उक्त सभी लोग पात्र हैं कच्चे मिटटी के मकान में गुजर बसर करने को मजबूर हैं, शिकायती पत्र में यह भी स्पष्ट उल्लेख किया गया है की जांच कर दोषियों पर कार्यवाही करने के साथ आवास योजना का लाभ दिलाया जाय, 15 दिनों के भीतर यदि अपेक्षित कार्यवाही नही होती है तो सभी लोग परिवार के साथ मुज़ेहना ब्लॉक मुख्यालय पर धरने बैठेंगे इस बात की चेतवानी भी दी गयी है।

प्रदीप शुक्ला

एडिटर: प्रदीप शुक्ला

प्रदीप शुक्ला एक स्वतंत्र पत्रकार हैं। ये अपनी निर्भीक पत्रिकारिता के लिए जाने जाते हैं। आप कई समाचार पत्रों में व मीडिया माध्यमों पर लिखते हैं।

Next Post

मनरेगा फर्जीवाड़ा में संलिप्त अधिकारियों को जेल भेजने की कवायद शुरू

Thu Nov 19 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. इटियाथोक गोंडा – मनरेगा फर्जीवाड़ा में 7 लोगों के खिलाफ मामला इटियाथोक थाने में दर्ज हुआ है यह मुकदमा प्रशासन की संलिप्तता का एक प्रमुख उदाहरण है जहां […]
error: Content is protected !!