क्या है तकिया युद्ध (Pillow Fighting)?

जिंदगी न मिलेगी दोबारा की तरह ये दिन भी फिर वापस न आएंगे। इसलिए जो पल खुशी व फन के मिलें उन्हें हाथ से न जाने दें। आप ने टमाटो थ्रोइंग डे, बुल फाइट डे, तो कभी फूल डे के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन क्या कभी आप ने तकिया युद्ध (Pillow Fighting) डे के बारे में सुना है, जिस में एकदूसरे की पिलो से जम कर धुनाई की जाती है, लेकिन मजे लेले कर, क्योंकि इसे फन डे की तरह मनाया जाता है। जरूरी नहीं कि विदेशों में ही इस दिन को सैलिबे्रट किया जाए, आप अपने शहर में भी इसे आयोजित कर रोमांचित हो सकते हैं। बस, जरूरत है दिल से चाहत की व उस के लिए एक बड़ा प्लेटफौर्म तैयार करने की, जो आज के सोशल नैटवर्किंग युग में बिलकुल भी मुश्किल नहीं है। तो फिर तैयार रहिए तकिया युद्ध (Pillow Fighting) से खुद को रीफ्रैश करने के लिए।

क्या है तकिया युद्ध (Pillow Fighting)?

इस में सोशल नैटवर्किंग साइट्स द्वारा लोगों तक सूचना पहुंचाई जाती है कि अमुक देश में इस जगह व इस तारीख को तकिया युद्ध (Pillow Fighting) डे का आयोजन किया जा रहा है, जिस में आप सभी आमंत्रित हैं। इच्छुक लोग यहां आ कर इस खेल का आनंद उठा सकते हैं। फन क्रेजी इस के लिए बताए वैन्यू पर बड़ी संख्या में व बड़ेबड़े ग्रुपों में एकत्रित होते हैं और फिर एकदूसरे की तकिए से पिटाई करते हुए तकियों को हवा में उछालते हुए मजा लेते हैं। इस दौरान वे किसी अपने के साथ ही फाइट करें यह जरूरी नहीं, कोई अजनबी भी हो सकता है। लेकिन इस से कोई फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि इस गेम का मकसद सिर्फ ऐंजौयमैंट है। इस दौरान तकिए से निकली रुई व फैदर एक अलग ही नजारा प्रस्तुत करती है, जिस से लोग उत्साह से भर जाते हैं।

कब होता है आयोजन?

तकिया युद्ध (Pillow Fighting) डे हर वर्ष अप्रैल में आयोजित किया जाता है। इस बार 7वां एनुअल इंटरनैशनल तकिया युद्ध (Pillow Fighting) डे 2 अप्रैल, 2016 को मनाया गया। शुरुआत में गिनेचुने देशों में ही इस का आयोजन किया जाता था, लेकिन बाद में इस की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए दुनियाभर में यह दिवस पूरे जोश के साथ मनाया जाने लगा। इस में हर साल हजारों लोग भाग लेते हैं।

क्यों मनाया जाता है?

लोगों को तनाव भरे जीवन से बाहर निकालने के साथसाथ डिफरैंट स्टाइल से फन कर खुद हंसना व औरों को भी हंसाना इस का मकसद है, लेकिन इस डे को शुरू करने की प्रेरणा फिल्म ‘फाइट क्लब’ से मिली। भले ही अब इस का आयोजन अधिकांश देशों में होने लगा है, लेकिन इस के लिए ओपन एरिया जैसे पार्क आदि की जरूरत होती है ताकि खेल में किसी भी प्रकार का व्यवधान न पड़े।

तकिया युद्ध (Pillow Fighting) के फायदे

–       बोरिंग रूटीन से बाहर निकलने का मौका मिलता है।

–       ज्यादा लोगों के साथ ज्यादा मस्ती कर पाते हैं।

–       नए फ्रैंड्स बनाने का भी चांस मिलता है।

–       नए दिन का नए अंदाज में मजा ले सकते हैं।

–       स्पैशल दिन के स्पैशल मूवमैंट्स को याद कर खुश हो सकते हैं।

देखादेखी बढ़ता है प्रचलन

सिर्फ तकिया युद्ध (Pillow Fighting) डे ही नहीं बल्कि हर फनी डे देखादेखी शुरू हुआ, जिस का उदाहरण है टमाटो थ्रोइंग डे। लंबे समय से स्पेन में अगस्त के आखिरी बुधवार को टमाटो थ्रोइंग डे मनाया जाता है। उसी को देख कर बौलीवुड की फिल्म ‘जिंदगी न मिलेगी दोबारा’ में टमाटर फैस्टिवल मनाया गया, जिस में एकदूसरे पर टमाटर फेंक कर उन्हें लाल कर दिया गया। उन टमाटरों से न सिर्फ चेहरे व कपड़े लाल हुए बल्कि जमीन पर पड़े टमाटरों पर फिसलने का भी अलग ही मजा लिया गया। कहने का मतलब यह है कि देखादेखी ही इन का क्रेज ज्यादा बढ़ रहा है।

You may also Like:

Hot Actress Priyanka Chopda in Very Hot Sence / प्रियंका चोपड़ा का हॉट सेन्स स्कैंडल वीडियो

किशोरी लड़कियां कब से पहनना शुरू करें ब्रा? कैसे करे सही ब्रा का चयन?

क्या आप भी करते हैं रोजाना परफ्यूम का इस्तेमाल, तो अवश्य पढ़ें..

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized