गौ आश्रय केंद्र रुद्रगढ़ नौसी में चार गायों की मौत एक गम्भीर रूप से घायल, नदारद कर्मचारी

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

ये हत्या है, या संरक्षण ?

धानेपुर : गोंडा

विकास खण्ड मुज़ेहना अंतर्गत ग्राम पंचायत रुद्रगढ़ नौसी में स्थित प्रदेश की प्रथम माडल गौ आश्रय केंद्र में सोमवार को चार मवेशी मृत एवं एक गाय जिसकी आँख फोड़ चुके कौवे को जानवरों ने नोच कर गम्भीर रूप से घायव अवस्था में पड़ी मिली, बता दें की मौके पर आश्रय केंद्र में कोई कर्मचारी नही मिला, आस पास के लोगों से पता करने पर जानकारी मिली की देखरेख कर रहे लोग हड़ताल किये हुए हैं।

ऐसे में सवाल उठता है की एक ही दिन में चार / पांच पशुओं के मौत की जिम्मेदारी कौन लेगा, क्या जनपद में तैनात अधिकारियों के बस की बात नही की आश्रय केंद्रों का संचालन ब्यवस्था को सुधार सकें, यदि नही तो केन्द्रो में कैद करने गायों की हत्या किये जाने का पाप क्यों किया जा रहा है।

एक बात तो तय है की अधिकारियों के ढुलमुल रवैय्ये के चलते सरकार की छवि धूमिल हो रही है साथ जन मानस में सरकार के प्रति आक्रोश की भावना जागृत करने का कार्य किया जा रहा है ! इस आश्रय केंद्र में पशुओं की मौत की खबरे सर्वाधिक सामने आईं हैं उसके बावजूद भी वही लोग जिनकी लापरवाही से मौतें हुयी अथवा निरन्तर हो रही हैं उन ना तो कार्यवाही का हन्टर चला और ना ही दूसरे लोगों को देखरेख के लिए नियुक्त किया गया। कुल मिला इस दर्द नाक स्थिति का जिम्मेदार कौन है ये जिम्मेदार अधिकारी कैसे तय करेंगे ये सवाल आज तक एक सवाल ही बना है।

प्रदीप शुक्ला

एडिटर: प्रदीप शुक्ला

प्रदीप शुक्ला एक स्वतंत्र पत्रकार हैं। ये अपनी निर्भीक पत्रिकारिता के लिए जाने जाते हैं। आप कई समाचार पत्रों में व मीडिया माध्यमों पर लिखते हैं।

Next Post

रुद्रगढ़ नौसी गौ आश्रय केंद्र में पशुओं के मरने की खबर पर हुयी बड़ी कार्यवाही।

Wed Sep 23 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. खबर का असर मुज़ेहना : गोंडा क्षेत्र का बहु चर्चित गौ आश्रय केंद्र रुद्रगढ़ नौसी में पशुओं के मरने की खबर को संज्ञान में ले कर विकास खण्ड […]
error: Content is protected !!