दिल्ली मेट्रो का रास्ता साफ, उपराज्यपाल अनिल बैजल ने सीएम केजरीवाल के प्रस्ताव को दी हरी झंडी

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

नई दिल्ली/ केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के चौथे फेज में खोली हैं मेट्रो सेवाएं। कोरोनावायरस महामारी के बीच 5 महीने से ज्यादा समय से बंद पड़ी दिल्ली मेट्रो सेवा अब जल्द ही फिर शुरू हो जाएगी। दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने बुधवार को इसके संचालन की मंजूरी दे दी। अब डीएमआरसी 7 सितंबर यानी सोमवार से मेट्रो संचालन शुरू कर सकेगा। बताया गया है कि एलजी ने यह फैसला दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की बैठक में लिया।

केंद्रीय आवास और शहरी विकास मंत्रालय की तरफ अनलॉक-4 के दिशा-निर्देशों के तहत मेट्रो ट्रेनों के परिचालन के लिए आज स्टैंडर्ड ऑफ प्रोसीजर (एसओपी) जारी हो सकता है। मंत्रालय के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा ने एसओपी को अंतिम रूप देने के लिए मंगलवार को सभी मेट्रो रेल निगमों के प्रबंध निदेशकों के साथ बैठक की। मेट्रो ट्रेनों का परिचालन क्रमिक तरीके से किया जाएगा। हालांकि, राज्यों को अपने हिसाब से मेट्रो ऑपरेट करने, उसके स्टेशन तय करने और प्रतिबंधों को लागू करने की छूट दी जाएगी।

दिल्ली सरकार ने भी दिल्ली मेट्रो सेवा को चलाने के लिए नए नियम लागू कर सकती है। इन प्रतिबंधों के तहत अब मेट्रो में सफर करने वाले लोग टोकन नहीं ले सकेंगे। साथ ही हर कोच में सफर करने वाले लोगों की संख्या भी सीमित होगी। अधिकारियों ने अभी कोच में अधिकतम यात्रियों की संख्या का खुलासा नहीं किया है, पर मेट्रो के छह डिब्बों की कुल क्षमता 1800 से 2000 पैसेंजर्स की होती है। कई अन्य नियमों के साथ मेट्रो के एयर कंडीशनिंग सिस्टम को बदलने की बात कही गई है।

दिल्ली सरकार ने भी दिल्ली मेट्रो सेवा को चलाने के लिए नए नियम लागू किए हैं। इन प्रतिबंधों के तहत अब मेट्रो में सफर करने वाले लोग टोकन नहीं ले सकेंगे। साथ ही हर कोच में सफर करने वाले लोगों की संख्या भी सीमित होगी। अधिकारियों ने अभी कोच में अधिकतम यात्रियों की संख्या का खुलासा नहीं किया है, पर मेट्रो के छह डिब्बों की कुल क्षमता 1800 से 2000 पैसेंजर्स की होती है। कई अन्य नियमों के साथ मेट्रो के एयर कंडीशनिंग सिस्टम को बदलने की बात कही गई है।
दिल्ली सरकार ने भी दिल्ली मेट्रो सेवा को चलाने के लिए नए नियम लागू किए हैं। इन प्रतिबंधों के तहत अब मेट्रो में सफर करने वाले लोग टोकन नहीं ले सकेंगे। साथ ही हर कोच में सफर करने वाले लोगों की संख्या भी सीमित होगी। अधिकारियों ने अभी कोच में अधिकतम यात्रियों की संख्या का खुलासा नहीं किया है, पर मेट्रो के छह डिब्बों की कुल क्षमता 1800 से 2000 पैसेंजर्स की होती है। कई अन्य नियमों के साथ मेट्रो के एयर कंडीशनिंग सिस्टम को बदलने की बात कही गई है।

मुकेश कुमार

एडिटर: मुकेश कुमार

Hindustan18-हिंदी में सम्पादक हैं। किसान मजदूर सेना (किमसे) में राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी के पद पर तैनात हैं।

Next Post

फ्रांस की पत्रिका 'चार्ली हेब्दो ने एक बार फिर छापा पैगंबर मोहम्मद का कार्टून, कहा- झुकेंगे नहीं

Wed Sep 2 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. एपी,पेरिस– फ्रांस की व्यंग्य पत्रिका ‘चार्ली हेब्दो ने 2015 के आतंकवादी हमले के बाद एक बार फिर पैगंबर मोहम्मद का कार्टून प्रकाशित किया है। पत्रिका ने कहा कि […]
error: Content is protected !!