मनरेगा फर्जीवाड़ा में संलिप्त अधिकारियों को जेल भेजने की कवायद शुरू

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

इटियाथोक गोंडा – मनरेगा फर्जीवाड़ा में 7 लोगों के खिलाफ मामला इटियाथोक थाने में दर्ज हुआ है यह मुकदमा प्रशासन की संलिप्तता का एक प्रमुख उदाहरण है जहां पर खुलेआम फर्जीवाड़ा किया जाता है शिकायत करने पर भी जांच अधिकारी सेटिंग गेटिंग कर मामले को रफा-दफा करने का प्रयास करते हैं। जब एक घोटाले को उजागर करने के लिए शिकायतकर्ता को एड़ी से चोटी जोर लगाना पड़ता है तब जाकर वह भी न्यायालय के हस्तक्षेप के बाद मुकदमा दर्ज होता है वाह रे प्रशासन तब कैसे रुकेगा भ्रष्टाचार जिन कंधों पर भ्रष्टाचार को रोकने की जिम्मेदारी है जब वही भ्रष्टाचार में लिप्त है तो फिर भ्रष्टाचार उजागर कैसे होगा?

अब मुकदमा तो दर्ज हो गया है। अब फिर होगा भ्रष्टाचार को दबाने का नया खेल। क्या यह लोग जेल जाएंगे? अब देखना दिलचस्प होगा। प्राप्त जानकारी के अनुसार मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट गोंडा के आदेश पर इटियाथोक थाना कोतवाली पर 7 लोगों के खिलाफ मुकदमा अपराध संख्या 403 / 20 धारा 409, 419, 420, 467, 468, 471 आईपीसी के तहत ग्राम प्रधान रैगांव श्रीमती फरीदा पत्नी आसिफ खान उर्फ अताउल्ला, ग्राम पंचायत अधिकारी रैगांव विकासखंड मुजेहना, राकेश गुप्ता तकनीकी सहायक संजीव कुमार, लेखाकार डॉक्टर आरबी यादव प्रभारी खंड विकास अधिकारी, मुजेहना दिलीप उपाध्याय प्रभारी सहायक विकास अधिकारी मुजेहना, हरिश्चंद्र राम प्रजापति उपायुक्त श्रम एवं रोजगार जनपद गोंडा पर मुकदमा दर्ज कर आगे की कार्यवाही की जा रही है यह तो एक बानगी है ऐसे घोटाले गोंडा जनपद में कई ग्राम पंचायतों में देखने को मिल सकता है लेकिन कारवाही बमुश्किल हो पाती है।

Pawan kumar Dwivedi

एडिटर: Pawan kumar Dwivedi

Next Post

ग्राम पंचायत संझवल में गौशाला है, जहां एक भी जानवर नहीं

Thu Nov 19 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. छुट्टा जानवरों के लिए बनी गौशाला , गौशाला में एक भी जानवर नहीं गोंडा पवन कुमार द्विवेदी इटियाथोक विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत संझवल में बनी गौशाला सरकार की […]
error: Content is protected !!