संबित पात्रा है राजीव त्यागी के मौत के जिम्मेदार, पुलिस करे गिरफ्तार – कांग्रेस प्रवक्ता की मौत पर किसने क्या कहा?

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता व प्रवक्‍ता राजीव त्‍यागी आखिरी बार जिस टीवी डिबेट में शामिल हुए थे, उसमें भाजपा की ओर से संबित पात्रा भी सम्मिलित थे। संवित पात्रा ने बहस के दौरान एक वक्‍त त्‍यागी को ‘जयचंद’ कहकर संबोधित किया था, जिसका विडियो अब त्यागी के मरणोपरांत वायरल हो गया है।

सरसरी निगाह:
कांग्रेस के राष्‍ट्रीय प्रवक्‍ता थे राजीव त्यागी, टीवी डिबेट्स में जोरदार ढंग से रखते थे देश की बातें।
निधन से ठीक पहले एक टीवी चैनल पर बहस में थे शामिल, बेंगलुरु हिंसा पर रखा पार्टी का पक्ष।
भाजपा के बड़बोले संबित पात्रा संग कई बार हुई तीखी बहस।

निधन के बाद जनता के निशाने पर आए पात्रा, खराब भाषा का इस्‍तेमाल करने के लिए झेल रहे गुस्‍सा।


अब खबर विस्तार से

नई दिल्‍ली – कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का बुधवार शाम को दिल का दौरा पड़ने से स्वर्गवास हो गया। मौत से ठीक पहले त्यागी एक टीवी चैनल पर डिबेट में हिस्सा ले रहे थे। खबरों की मानें तो बहस खत्म होने के कुछ ही मिनटों में तकलीफ शुरू हुई और वह बेहोश हो गए। उन्हें गाजियाबाद स्थित यशोदा हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। त्‍यागी के निधन के बाद कांग्रेस के दिग्‍गज नेताओं समेत कई नामी हस्तियों ने शोक प्रकट किया है। वहीं, ट्विटर पर बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा के खिलाफ ट्वीट्स का अंबार लगने लगा है। कई यूजर्स त्‍यागी की आखिरी टीवी डिबेट का विडियो शेयर कर पात्रा को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं। उनका आरोप है कि पात्रा ने बेहद आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग किया जिससे त्‍यागी की तबीयत बिगड़ गई।

पात्रा ने राजीव त्‍यागी के लिए क्‍या कहा?

 

त्‍यागी एक निजी चैनल पर बेंगलुरु हिंसा पर बहस में शामिल हुए थे। जो विडियो वायरल हैं उसमें बीजेपी प्रवक्‍ता संबित पात्रा कहते नजर आ रहे हैं, “हमारे घर के जयचंदों ने हमारे घर को लूटा है। अरे नाम लेने में शर्मं कर रहे हैं। वो घर जला रहे हैं और यहां जयचंद नाम तक नहीं ले पा रहे हैं। अरे, टीका लगाने से कोई सच्‍चा हिंदू नहीं बन जाता है। टीका लगाना है तो दिल में लगाओ और कहो कि किसने घर जलाया है।” त्‍यागी बीच में कहते हैं कि ‘मैं जवाब देना चाहता हूं।’ एक और विडियो वायरल है जिसमें डॉक्टर कह रहे हैं कि कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी को टीवी डिबेट के दौरान ही दिल का दौरा पड़ गया था।

संबित पात्रा की अभद्र भाषा पर क्‍या कह रहे हैं लोग?

सोशल मीडिया पर कांग्रेस के नेताओं के अलावा बड़ी संख्‍या में यूजर्स ने पात्रा के लहजे और भाषा की तीखी आलोचना की है। कांग्रेस नेता गौरव पंधी ने लिखा कि ‘पात्रा ने राजीव त्‍यागी को गद्दार कहा।’ एक अन्‍य कांग्रेस नेता ने कुछ पत्रकारों के साथ पात्रा के नाम गिनाते हुए कहा कि इन लोगों ने मीडिया को बेहद जहरीला बना दिया है। कई यूजर्स ने पात्रा को सीधे-सीधे त्‍यागी की मौत का जिम्‍मेदार ठहराया और उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की मांग की।

किसान मजदूर सेना के संस्थापक/राष्ट्रीय अध्यक्ष ने भी ट्वीट करके दी श्रधंजलि

डॉ का वीडियो जिसमे मौत के लिए बहस बताई गई है

 

बेशर्म पात्रा ने भी जताया शोक पात्रा

कांग्रेस प्रवक्‍ता के निधन के बाद शोक जताने के लिए ट्वीट करने वालों में पात्रा भी शामिल थे। उन्‍होंने लिखा था, “विश्वास नहीं हो रहा है कंग्रेस के प्रवक्ता मेरे मित्र श्री राजीव त्‍यागी हमारे साथ नहीं है। आज 5 बजे हम दोनो ने साथ में डिबेट भी किया था। जीवन बहुत ही अनिश्चित है …अभी भी शब्द नहीं मिल रहे। हे गोविंद राजीव जी को अपने श्री चरणो में स्थान देना।”

राजीव त्‍यागी ने आखिरी बहस में क्‍या कहा?

पार्टी का पक्ष रखते हुए त्‍यागी ने कहा था कि “दंगाई सलाखों के पीछे होने चाहिए।” इसके बाद उन्‍होंने भाजपा के स्‍थानीय कार्यकर्ता की एक पोस्‍ट पढ़ी। इसके बाद त्‍यागी ने कहा, “भाजपा वर्कर होने की वजह से उनकी गिरफ्तारी तीन घंटे बाद की गई। मैं ये पूछना चाहता हूं कि जिन्‍होंने पोस्‍ट किया, वह सलाखों के पीछे होने चाहिए। जिन्‍होंने कानून हाथ में लिया, वह भी सलाखों के पीछे होने चाहिए।”

राजीव त्‍यागी पर राहुल बोले- बब्‍बर शेर चला गया

14 साल से कांग्रेस में थे त्‍यागी। लोकदल से अपने राजनीतिक पारी की शुरुआत करने वाले 50 वर्षीय त्यागी 2006 में पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल हुए। तब से वह विभिन्न भूमिकाओं में थे। कुछ साल पहले उन्हें पार्टी ने राष्ट्रीय प्रवक्ता की ज़िम्मेदारी सौंपी। फिलहाल वह यूपी कांग्रेस में महासचिव व प्रदेश कांग्रेस के मीडिया प्रभारी की ज़िम्मेदारी भी देख रहे थे।

मुकेश कुमार

एडिटर: मुकेश कुमार

Hindustan18-हिंदी में सम्पादक हैं। किसान मजदूर सेना (किमसे) में राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी के पद पर तैनात हैं।

Next Post

ब्राह्मणों पर नही रुक रहा पुलिसिया अत्याचार, अपर पुलिस अधीक्षक गोण्डा गैर जातीय लोगों के लिए बन चुका है संकट

Thu Aug 13 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. गोण्डा- उत्तर प्रदेश से एक बार फिर से ब्राम्हण उत्पीड़न कि खबर आई है। मामला करनैलगंज का जहां पर एक पुलिस अधिकारी ने वर्दी की मर्यादा को खूंटी […]
error: Content is protected !!