समयावधि पूर्ण होने पर भी एफ डी की रकम निकाषी के लिए डाक घर का काट रहे चक्कर

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

बाबागंज : गोंडा

सरकार ने कोरोना काल में डाक सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए जहां एक तरफ, तरह तरह की सुविधाओं से जनता को इसलिए जोड़ने का काम किया ताकि विभाग से जनता को जमा निकाषी सहित अन्य सेवाओ में सहूलियत मिले सके, लेकिन जनपद के श्री नगर बाबागंज के डाक घर का एक प्रकरण ऐसा सामने आया है, जिसके मुताबिक़ एक किसान अपने ही एफ डी की रकम निकाषी के लिए डाक घर के चक्कर काटने को विवश है।

धानेपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पूरे लेदई पोस्ट बखरवा के रहने वाले कृष्णा नन्द तिवारी पुत्र जगदीश दत्त तिवारी ने वर्ष 2015 में एफ.डी खरीदा था जिसकी समयावधि की पूर्ण होने पर उक्त के द्वारा अब अपनी ही बचत राशि की निकाषी के लिए डाक घर का चक्कर काट रहा है।

बताते चलें की डाक घर बाबागंज की शाखा के कर्मचारियों की वजह से अथवा टेक्निकल समस्या के चलते उपभोक्ता द्वारा खरीदा राष्ट्रीय बचत पत्र की कम्प्यूटर में फीडिंग नही हो पाई थी, इसलिए अब समयावधि पूर्ण होने के बाद भुगतान में समस्या खड़ी हो रही है !

विभागीय लापरवाही कह लें या टेक्निकल समस्या रही हो जिसका खामियाजा अब उपभोक्ता को डाक घर के चक्कर काट कर भुगतना पड़ रहा है ।

जिससे से तंग कृषक उपभोक्ता द्वारा दिनांक 30/09/2020 को डाक अधीक्षक से भी भुगतान कराये जाने के सम्बन्ध में प्रार्थना पत्र दिया गया लेकिन उसके बावजूद उपभोक्ता अपनी बचत राशि ज़रूरत पड़ने पर प्राप्त नही कर पा रहा है।

इसे भी देखें:
गोंडा- BJP सरकार में अपहरण कुटीर उद्योग.. हत्या आम बात हो गई है, ओम प्रकाश राजभर का हमला

Mirzapur 2: तो क्या मिर्जापुर वाले चचा सीजन 1 के शादी की रात ही मरने वाले थे, पर . . .

इस सम्बन्ध में डाक कर्मचारी संघ के राष्ट्रीय स्तर के पदाधिकारी रामानन्द तिवारी ने कहा है, की किसी उपभोक्ता को अपने ही रकम के लिए डाक घर के चक्कर काटने का यह प्रकरण बहुत ही दुर्भाग्य पूर्ण है, उन्होंने उच्चाधिकारियों के इस सम्बन्ध में शिकायत भेजने की बात कही है।

प्रदीप शुक्ला

एडिटर: प्रदीप शुक्ला

प्रदीप शुक्ला एक स्वतंत्र पत्रकार हैं। ये अपनी निर्भीक पत्रिकारिता के लिए जाने जाते हैं। आप कई समाचार पत्रों में व मीडिया माध्यमों पर लिखते हैं।

Next Post

रॉ ने जब भिंडरावाले का हेलीकॉप्टर से अपहरण करने की योजना बनाई: विवेचना

Mon Nov 9 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. हरचरण सिंह लौंगोवाल और जरनैल सिंह भिंडरावाले स्वर्ण मंदिर से निकलते हुए इमेज स्रोत, SATPAL DANIS जब 1982 ख़त्म होते-होते पंजाब के हालात बेक़ाबू होने लगे तो रॉ […]
error: Content is protected !!