हाथरस मामले में नया मोड़, भाजपा के पूर्व विधायक का दावा- मां और भाई ने की थी बेटी की हत्या

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

अलीगढ-  हाथरस सामूहिक दुष्कर्म कांड पेचीदा होता जा रहा है। परिवार और पुलिस के अलग-अलग बयानों की गुत्थी अभी सुलझी भी नहीं है कि मामले में एक नया मोड़ सामने आया है।

शुक्रवार को भाजपा के पूर्व विधायक राजवीर सिंह पहलवान ने युवती की हत्या के लिए परिजनों को ही जिम्मेदार ठहराया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि लड़की को उसके भाई और मां ने ही मारा है।
उनका कहना है कि चारों युवक निर्दोष हैं और उन्हें फंसाया गया है। वहीं सांसद राजवीर सिंह दिलेर को लेकर उन्होंने कहा है कि उन्हें तो जनता सबक सिखाएगी। बता दें कि सांसद राजवीर सिंह दिलेर भाजपा के ही सदस्य हैं। वह वाल्मीकि जाति से हैं जबकि राजवीर सिंह पहलवान ठाकुर बिरादरी से हैं।

मालूम हो कि एक आरोपी रामू के पिता राकेश ने आरोप लगाया था कि उनके बेटे को इस मामले में क्षेत्रीय सांसद राजवीर दिलेर और उनकी बेटी मंजू दिलेर ने फंसवाया है। इसकी वजह यह है कि दूसरा पक्ष यानी युवती का परिवार वाल्मीकि जाति का है और सांसद भी इसी बिरादरी के हैं जबकि वे लोग (आरोपी) ठाकुर हैं।

उन्होंने कहा है कि यदि मेरा बेटा दोषी है तो उसे सरेआम गोली मार दी जाए। राकेश ने आरोप लगाया है कि इस मामले में निर्दोष लोग फंसाए गए हैं। उन्होंने कहा है कि वे ठाकुर जाति के हैं। रवि मेरे बड़े भाई का बेटा और संदीप मेरे सबसे बड़े भाई का नाती है। सभी निर्दोष हैं। यह उनके पड़ोसी हैं। आस-पास में झगड़ा तो चलता रहता है। उन्होंने कहा है कि यह घटना 14 सितंबर को हुई है। पहले केवल संदीप का नाम था।

उसके बाद गांव में राजवीर दिलेर की बेटी मंजू दिलेर ने अपनी फेसबुक पर लिखा है कि उनकी 18 सितंबर को परिजनों से बात हुई और उन्होंने मुझे और नाम बताए। इसके बाद मंजू दिलेर व सांसद ने यह नाम बढ़वा दिए।

मुकेश कुमार

एडिटर: मुकेश कुमार

Hindustan18-हिंदी में सम्पादक हैं। किसान मजदूर सेना (किमसे) में राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी के पद पर तैनात हैं।

Next Post

उत्कृष्ट सेवा लिए किसान मजदूर सेना ने पुलिस के जवान को प्रशस्ति पत्र दे कर किया सम्मानित।

Sun Oct 4 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. धानेपुर गोंडा प्रदेश में घटित कुछ अप्रिय घटनाओं को ले कर जहाँ एक तरफ पुलिसिया कार्य शैली पर सवाल खड़े किये जा रहे है, वहीँ दूसरी तरफ कुछ […]
error: Content is protected !!