भारत को गौरवान्वित करने वाली 12 बेमिशाल महिलाएं, जिनके नाम से गूंजा साल 2021

भारत को गौरवान्वित करने वाली 12 बेमिशाल महिलाएं, जिनके नाम से गूंजा साल 2021

अगर मन में कुछ बड़ा करने की चाह हो, तो कोई भी सामाजिक बंधन आपके कदमों को कभी बांध नहीं सकता । साल 2021 में देश की कुछ ऐसे ही सफल महिलाओं की कहानियों ने इस बात को सच साबित कर दिखाया। जिन्होने पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक से लेकर मिस यूनिवर्स का ताज जीतने तक, पढ़ें हरनाज़ संधू से लेकर तुलसी गौड़ा जैसी शक्तिशाली महिलाओं ,फाल्गुनी नायर देश की सबसे अमीर महिला बनकर उभरी। जानिए, दुनिया की १२ महिलाओं की कहानियां जिन्होंने करोड़ों महिलाओं को एक नई दिशा और प्रेरणा देने का काम किया और देश को गौरवान्वित करते हुए साल 2021 को अपने नाम किया।

1. फाल्गुनी नायर

निवेश बैंकिंग में 20 साल के लंबे करियर को छोड़कर, 50 साल की उम्र में एक ब्यूटी स्टार्टअप शुरू करने बाली फाल्गुनी नायर साल की सबसे सफल महिलाओं में से एक बन है । Nykaa की संस्थापक, फाल्गुनी ने 2012 में ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म लॉन्च किया, इसके मोबाइल ऐप और वेबसाइट के माध्यम से सौंदर्य और व्यक्तिगत देखभाल उत्पादों की बिक्री की। फाल्गुनी नायर ने बायोकॉन की संस्थापक किरण मजूमदार-शॉ को संपत्ति के मामले में पछाड़कर भारत की दूसरी सबसे धनी महिला बन गई हैं।

2. अवनि लेखरा

11 साल की उम्र में एक दुर्घटना का शिकार होने के बाद, अवनि  एक व्हीलचेयर पर आ गई थीं, क्योंकि उनका निचला शरीर लकवाग्रस्त हो गया था। जब सभी को लगा कि अब उनके लिए जीवन रुक सा गया है, तब अवनि ने एक नए सफर पर निकलने का फैसला किया और जयपुर की 19 साल की यह लड़की पैरालिंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाली पहली महिला बनी। R-2 महिलाओं की 10 मीटर एयर राइफल की श्रेणी में, अवनि ने 2020 टोक्यो पैरालिंपिक में एक नया रिकॉर्ड बनाया। 2015 से ट्रेनिंग शुरू करने के बाद, यह उनका पहला बड़ा अंतरराष्ट्रीय पदक था।

3. तुलसी गौड़ा

तुलसी गौड़ा, जिसे “एनसाइक्लोपीडिया ऑफ फॉरेस्ट” के रूप में जाना जाता है  जंगल की रक्षा करने के उनके प्रयासों व योगदान के लिए राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री से सम्मानित किया गया । ‘जंगल की एन्साइक्लोपीडिया’ के नाम से मशहूर 72 वर्षीया तुलसी ने 30,000 से अधिक पौधे लगाए हैं। तुलसी, कभी स्कूल नहीं गईं और 12 साल की उम्र में ही उनकी शादी हो गई थी। इसके बावजूद, उनके पास पौधों को बस एक बार छूकर पहचानने की अनूठी क्षमता है। वह कर्नाटक वन विभाग के साथ-साथ पूरी दुनिया के लिए एक अनमोल रत्न हैं ।

4. गीता गोपीनाथ

अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) की पहली उप प्रबंध निदेशक (FDMD), गीता गोपीनाथ वर्तमान में FDMD जेफ्री ओकामोटो की जगह लेने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। मैसूर की मूल निवासी गीता, एक टेक्नोक्रेट और कई किताबों की लेखिका हैं। इस 50 वर्षीया महिला ने साल 2001 में प्रिंसटन विश्वविद्यालय से पीएचडी पूरी की और आईएमएफ की मुख्य अर्थशास्त्री के रूप में सेवा देने वाली पहली महिला बनीं ।

5. मीराबाई चानू

टोक्यो ओलंपिक-2020 में, महिला वर्ग के 49 किग्रा वेटलिफ्टिंग में रजत पदक विजेता, मीराबाई चानू भारत की पावर लेडी हैं। मणिपुर के एक पारंपरिक परिवार में जन्मी मीराबाई ने साल 2016 में हुए रियो ओलंपिक से डेब्यु किया था। वह 22 साल की उम्र में कर्णम मल्लेश्वरी के बाद, वर्ल्ड वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में स्वर्ण जीतने वाली दूसरी भारतीय महिला बनीं। मीराबाई सिर्फ 11 साल की थीं जब उन्होंने एक कम्पीटिशन में अपना पहला स्वर्ण पदक जीता था। खेल जगत में उनके योगदान के लिए, उन्हें साल 2018 में पद्म श्री और राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।27 वर्षीय मीराबाई चानू ने जुलाई में टोक्यो ओलंपिक में महिलाओं की 49 किग्रा भारोत्तोलन में रजत पदक जीता, जिससे 2020 के खेलों में भारत को पहला पदक मिला। मणिपुर की लौह महिला ने कुल 202 किलो (87 किलो+115 किलो) वजन उठाया।

6. नीना गुप्ता

नीना गुप्ता  कोलकाता में भारतीय सांख्यिकी संस्थान में प्रोफेसर हैं। उन्हें, एफाइन बीजगणितीय ज्यामिति और कम्यूटेटिव बीजगणित में उल्लेखनीय काम के लिए, DST-ICTP-IMU रामानुजन पुरस्कार से सम्मानित किया गया। वह यह पुरस्कार प्राप्त करने वाली तीसरी महिला और चौथी भारतीय हैं। कोलकाता में जन्मी और पली-बढ़ीं, नीना ने भारतीय सांख्यिकी संस्थान से गणित में मास्टर्स और पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। इस विषय में उनका ज्ञान और रुचि, हर उस व्यक्ति के लिए प्रेरणा है, जो इस क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहता है।

7. पीवी सिंधु

साल 2013 में हुए ‘मलेशियाई ओपन ग्रैंड प्रिक्स’ में जीत हासिल करने के बाद से, पीवी सिंधु का नाम भारत में बैडमिंटन का पर्याय बन गया है। साल 2019 में, वह बैडमिंटन विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली पहली भारतीय बनीं। सिंधु, रियो ओलंपिक-2016 और टोक्यो ओलंपिक-2020 में लगातार दो पदक जीतने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी हैं। हैदराबाद के एक स्पोर्ट्स फैमिली में जन्मीं यह 26 वर्षीया खिलाड़ी, अब महिला एकल की विश्व रैकिंग में 7 वें स्थान पर है।

8. हरनाज़ संधू

भारत की हरनाज संधू को 12 दिसंबर को 70वीं मिस यूनिवर्स का ताज पहना,इससे पहले 2000 में लारा दत्ता के मिस यूनिवर्स का 21 साल पहले यह खिताब अपने नाम किया। चंडीगढ़ की रहनेवाली हरनाज़ ने ब्यूटी काम्पीटिशन्स का उनका सफर तब शुरू हुआ, जब 17 साल की उम्र में उन्होंने अपने शहर का प्रतिनिधित्व करते हुए एक राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लिया। वह साल 2019 में ‘फेमिना मिस इंडिया’ में भाग लेने गईं और उसी वर्ष फेमिना मिस इंडिया पंजाब का ताज भी जीता।

9. लीना नायर

फ्रेंच लक्जरी फैशन हाउस ‘शनेल ( Chanel)’ की लेटेस्ट ग्लोबल चीफ एग्जीक्यूटिव (सीईओ), लीना नायर, यूनिलीवर की पहली महिला और सबसे कम उम्र की मुख्य मानव संसाधन अधिकारी (सीएचआरओ) भी थीं । महाराष्ट्र की मूल निवासी लीना ने मैनेजमेंट में अपना करियर तब शुरू किया , जब उनकी कंपनी में केवल दो प्रतिशत महिला कर्मचारी थीं। उन्हें साल 2021 की फॉर्च्यून इंडिया की सबसे शक्तिशाली महिलाओं में भी शामिल किया गया था ।

10. फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ

भारत की पहली महिला फाइटर पायलटों में से एक, भावना कंठ साल 2021 के गणतंत्र दिवस परेड में भारतीय वायु सेना (IAF) की झांकी में भाग लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बनीं। अवनि चतुर्वेदी और मोहना सिंह के साथ, उन्हें इसमें शामिल किया गया। उन्हें, साल 2016 में पहली महिला फाइटर पायलट के तौर पर IAF में शामिल किया गया था। बिहार में जन्मी  भावना BMS कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग (बैंगलोर) से मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स में स्नातक हैं। उन्हें जून 2016 में IAF के फाइटर स्ट्रीम में कमीशन किया गया था।

11. कृति करंत

सेंटर फॉर वाइल्डलाइफ स्टडीज़ में मुख्य संरक्षण वैज्ञानिक, कृति करंत ‘वाइल्ड इनोवेटर अवॉर्ड-2021’ जीतने वाली पहली भारतीय और एशियाई महिला हैं। यह अवॉर्ड, वाइल्ड एलीमेंट्स नामक एक फाउंडेशन द्वारा दिया जाता है, जो हालातों को बदलने और वैश्विक स्थिरता और संरक्षण के समाधान की पहचान करने की वकालत करता है। भारत में एक प्रमुख संरक्षण वैज्ञानिक, कृति को वन्यजीव संरक्षण के क्षेत्र में काफी विशेषज्ञता हासिल है। मंगलुरु की मूल निवासी कृति को ‘वीमेन ऑफ डिस्कवरी अवॉर्ड-2019’ से भी सम्मानित किया जा चुका है। यह अवॉर्ड, ‘विंग्स वर्ल्डक्वेस्ट’ नाम के एक संगठन द्वारा, महिला वैज्ञानिकों को संबंधित क्षेत्रों में उनके असाधारण काम के लिए दिया जाता है।

12. शैली सिंह

शैली सिंह वह एथलीट जिसने बिना जूतों के अपने करियर की शुरुआत की और साल 2021 में अंडर-18 यूथ लॉन्ग जंप में वर्ल्ड नंबर 1 का खिताब जीता । वह झांसी में एक सिंगल मदर की बेटी के रूप में पैदा हुई थीं । जीवन में कई कठिनाइयों को पार करने वाली शैली के लिए लॉन्ग जंप कोई मुश्किल काम नहीं था । उन्हें बेंगलुरु में ‘अंजू बॉबी जॉर्ज स्पोर्ट्स फाउंडेशन’ में ट्रेनिंग दी गई थी । शैली अब अंडर-18 लॉन्ग जंपर्स की सूची में दुनिया भर के टॉप 20 खिलाड़ियों में से एक हैं ।

 READ ALSO-आज है विश्व हिंदी दिवस, जानें इसे 10 जनवरी को ही क्यों मानते है ? और राष्ट्रीय हिन्दी दिवस और विश्व हिंदी दिवस में क्या है अंतर

UP Police Recruitment 2022: यूपी पुलिस में कांन्स्टेबल के पद पर आई बंपर भर्ती, जल्दी करें आवेदन

भारत के टॉप 10 यूट्यूब सुपरस्टार जो अपने कॉमिक सेंस और सोशल संदेशों से कर रहे दिलों पर राज

 

अनुराग बघेल

एडिटर: अनुराग बघेल

मेरा नाम अनुराग बघेल है। मैं बिगत कई सालों से प्रिन्ट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़ा हूँ। पत्रकारिकता मेरा पैशन रहा है। फिलहाल मैं हिन्दुस्तान 18 हिन्दी में रिपोर्टर ओर कंटेंट राइटर के रूप में कार्यरत हूं।

Next Post

कोरोना तीसरी लहर: प्रधानमंत्री ने जिला स्तर पर स्वास्थ्य ढांचे को तैयार करने का दिया निर्देश , वैक्सीनेशन तेज करने को कहा

Mon Jan 10 , 2022
कोरोना तीसरी लहर: प्रधानमंत्री ने जिला स्तर पर स्वास्थ्य ढांचे […]
error: Content is protected !!