प्रसूता के पेट में आपरेशन के बाद डाक्टर ने छोड़ा कपड़ा और सिल दिया आंत को भी धागे से

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

लखनऊ: शाहजहांपुर जिले में ऑपरेशन के दौरान एक प्रसूता के पेट में ही कपड़ा छोड़ देने के मामले की जांच के लिए मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य ने 3 सदस्य टीम बनायी है। पीड़िता की गंभीर हालत को देखते हुए उसे लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया है, जहां ऑपरेशन के बाद वह वेंटिलेटर पर है। दोबारा कराए गए सीटी स्कैन से ये भी पता चला कि आंतों को धागे से जोड़ा गया, जिससे काफी इंफेक्शन फैल गया है। राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य राजेश कुमार ने को पीड़ित पक्ष की ओर से मिली शिकायत के हवाले से बताया कि तिलहर थानाक्षेत्र के रामापुर उत्तरी के मनोज की पत्नी नीलम ने 6 जनवरी को यहां ऑपरेशन के दौरान एक बेटी का जन्म दिया था।

इसी ऑपरेशन के दौरान नीलम के पेट में कथित रूप से कपड़ा छोड़ने का आरोप है। कुमार ने बताया कि मामला पुराना है लेकिन जैसे ही उन्हें शिकायत प्राप्त हुई तो इसे गंभीर लापरवाही मानते हुए उन्होंने जांच टीम बनायी जिसकी जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के विरुद्ध विधिक कार्रवाई की जाएगी। इसी बीच महिला के पति मनोज ने पत्रकारों को बताया कि बेटी के जन्म के बाद उसकी पत्नी के पेट में दर्द की शिकायत रहती थी।

उन्होंने कई प्राइवेट डॉक्टरों से दवा ली, लेकिन जब फायदा नहीं हुआ तो उन्हें 21 जुलाई को एक निजी मेडिकल कालेज में भर्ती कराया, जहां सीटी स्कैन करने के बाद पता लगा कि नीलम के पेट में डॉक्टर द्वारा ऑपरेशन के दौरान कपड़ा छोड़ दिया गया है। इसके बाद ऑपरेशन करके पीड़िता के पेट से कपड़ा निकाला गया। पीड़िता नीलम के पिता राधेश्याम ने फोन पर लखनऊ से बताया कि उनकी बेटी लखनऊ के ट्रामा सेंटर में भर्ती है जहां ऑपरेशन करने के बाद उसकी हालत गंभीर बनी हुई है और उसे वेंटिलेटर पर रखा गया है।

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

क्या आप जानते है? मैदा खाने से हमारे शरीर पर क्या असर पड़ता है

Sat Jul 24 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. बार बार हम लोगों से सुनते हैं कि मैदा नहीं खाना चाहिए। यह स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसान दायक होता है| लेकिन आजकल तो हमारे दैनिक जीवन का […]
error: Content is protected !!