क्या आप भी ओवर थिंकिंग के शिकार है? जानिए कैसे

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

ओवर थिंकिंग के शिकार आज बोहत सारे लोग होते जा रहे है। और कोरोना के बाद तो इसमें असख्य वर्द्धि हुई है। जिस किसी को ऐसा होता है। उसमे से कई सारे लोगो को पता ही नहीं होता है की वो ओवर थिंकिंग के शिकार बन चुके है। तो चलिए जानते है।

इन पांच बातों से पता चलता है कि ओवर थिकिंग के शिकार हैं

क्या आप कम काम करने के बाद भी हमेशा थका-थका महसूस करते हैं? क्या आपको हमेशा अपने दिमाग पर भारीपन लगता है? तो अगर आपका जवाब हां हैं, तो इनकी वजह आपकी ओवरथिंकिंग की आदत हो सकती है। आधुनिक युग में हमेशा फिर्जूल की बातें सोचते रहने की आदत बढ़ती जा रही है। और अभी लोग हमेशा ज्यादातर कुछ न कुछ सोचते रहते है। यह आदत कब बीमारी बन जाती है, किसी को पता भी नहीं चलता। अगर आप भी हमेशा सोचते रहते हैं, तो आपको इन बातों पर गौर करके इसे दूर करने की कोशिश करनी चाहिए।

सांस लें और ध्यान लगाएं

आप दुनिया की हर चीज को नियंत्रित नहीं कर सकते, ऐसे में अगर आप योग और एक्सरसाइज को दैनिक रूप से करें, तो यह आपके मस्तिष्क की अव्यवस्था को साफ कर सकता है। जब आपको लगता है, कि आप नियंत्रण से बाहर हो रहे हैं। तो किसी और के लिए कुछ अच्छा करें ताकि आप जीवन का एक नया दृष्टिकोण प्राप्त कर सकें और वापस पटरी पर आ सकें। जब आप किसी के लिए कुछ करते है, तो आप को अंतरआत्मा से संतुष्टि मिलती है।

किसी भी बात पर तुंरत रिएक्ट न करें

कोई भी बात जिससे आपको गुस्सा या दुख पहुंचता हो, उसपर तुंरत रिएक्ट न करें ।कुछ देर के लिए रुक जाये । उसके बारे में ज्यादा न सोचें। ऐसे में घर से बाहर निकलें या तुरंत किसी और काम में अपना दिमाग लगा दें। साइकिल चलाने या बाहर यूं ही टहलने निकल जाएं। कुछ नई चीजों को सीखें और जब भी ऐसा हो उन्हीं चीजों को करें। इस तरह ये आपके दिमाग की मांसपेशियों को रीलेक्स करने में मदद करेगा। और आप का गुस्सा शांत हो जायेगा।

खुद को माफ करें और गलतियों को भूलें

जीवन में हर किसी से कोई न कोई गलती होती ही है। ऐसे में आपको इन चीजों को भूलकर आगे बढ़ना चाहिए। दूसरों को माफ करने के लिए जरुरी है, पहले खुद सभी चीजों को आसान बनाकर देखें और सारी गलतियां भूल जाएं। अगर आप अपने दिमाग से खेलते रहेंगे और उन परिदृश्यों को दोहराते रहेंगे तो इसका कोई मतलब नहीं है। जिससे इसका असर आपके मानसिक स्वास्थ्य पर होगा। ऐसे में कोशिश करें कि पुरानी बातों को भूल जाएं और भविष्य को लेकर अच्छा सोचें।

हमेसा गुमसुम या अकेले न रहे और दोस्तों से बात करें

खुद को अकेले छोड़ना ओवरथिंकिंग को ट्रिगर करता है। ऐसे में खुद को अकेले मत छोड़िए। आपको जब भी लगे कि आप ज्यादा सोच रहे हैं, तो उस अकेली जगह को छोड़े और दोस्तों के बीच चलें जाएं। अपने परिवार और दोस्तों के पास जाएं और अपने मन की बात या जो भी परेशानी हो उनसे कह लें। इस तरह आपका मन भी हल्का हो जाएगा और आप खुद को फ्रेश और अच्छा महसूस करेंगे।

अपनी उपलब्धियों के बारे में सोचें

जीवन में कभी न कभी ऐसा होता है, कि हमें अपने भविष्य को लेकर शंका होने लगती है। और हम सोचने में लगे रहते है। ऐसे में अगर आप भी हमेशा ऐसा सोचते रहते हैं। तो अपने दिमाग की सोच की दिशा बदलते हुए अपने जीवन की उपलब्धियों पर ध्यान लगाएं। ऐसे में एक पल के लिए सोचें कि आपने अपने जीवन में क्या हासिल किया है। मामूली उपलब्धियां हो सकती हैं। लेकिन आपके पास शायद एक भूमिका थी।
आप ने अभी तक अपने जीवन में जो जो किया है वो सब याद करो, उसे फील करो ,आपको यह जानकर आश्चर्य हो सकता है। कि आप इस समय जो भी आपके मन को भटका रहे हैं। उससे आप खुद को अधिक मजबूत और सक्षम पाएंगे हैं।

इस तरीके से आप ओवर थिंकिंग की समस्या से बहार निकल सकते है।

ALSO VISIT:

दीप माला गुप्ता

एडिटर: दीप माला गुप्ता

दीप माला गुप्ता रिपोर्टर, एंकर एवं वीडियो न्यूज़ एडिटर हैं। इन्होने जर्नलिजम में डिप्लोमा किया है। आप hindustan18.com के लिए रिपोर्टिंग एवं स्क्रिप्ट लिखने का कार्य करती हैं।

Next Post

महंगे हुए स्मार्ट फ़ोन, Samsung गैलेक्सी, Oppo, Redmi ने बढ़ाये दाम

Fri Jul 9 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. एक तरफ महंगाई जान ले रही है । तो दूसरी तरफ लोगो को बहुत बड़ा झटका लगने वाला है, क्युकी स्मार्टफोन्स के भाव बढ़ गए है। महंगे हुए […]
error: Content is protected !!