चने खाने से मिलते है, शरीर को अचूक फ़ायदे, जानिए

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

चने खाने से मिलते है, शरीर को अचूक फ़ायदे Chickpeas Benefits

क्या आप जानते हैं सुबह खाली पेट भीगे चने खाने के कौन कौन से फायदे है। जी हां आप ने देखा होगा की जो खिलाड़ियों और कसरत करने वालों को कच्चे चने खाने की सलाह क्यों दी जाती है? क्यों अंकुरित आहार में चने को विशेष महत्व दिया गया है? ऐसा इसलिए कहा जाता है, क्योंकि छोटा-सा दिखने वाला चना प्रोटीन और फाइबर से भरपूर होता है। साथ ही इसे कैल्शियम और फास्फोरस का भी अच्छा स्रोत माना गया है। यह पाचन तंत्र को मजबूत करने के साथ-साथ इम्यूनिटी को बढ़ाने और मेटाबॉलिज्म को बूस्ट करने का काम कर सकता है। साथ ही मांसपेशियों की क्षमता को भी बेहतर करता है। चने खाने के बहुत सारे फायदे है। चलिए जानते है।

चना क्या होता है? – What is Chickpeas in Hindi

चना कई औषधीय गुणों से परिपूर्ण एक खाद्य पदार्थ होता है। जिसका वैज्ञानिक नाम साइसर एरीटिनम है। यह एक महत्वपूर्ण दलहन (Pulse) है, जिसे दुनिया भर में उगाया जाता है। भारत में इसका उत्पादन सबसे ज्यादा किया जाता है। यह कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, फाइबर व विटामिन-बी सहित कई अन्य पोषक तत्वों का अच्छा स्रोत है। चने की एक खास बात यह है कि इसका सेवन कई तरह से किया जा सकता है।

चने के प्रकार – Types of Chickpeas in Hindi

चने के दो प्रकार के होते हैं।

देसी चना – देसी चना आकार में छोटा होता है और रंग गहरा भूरा होता है।
काबुली चना – वहीं, काबुली चना देसी चने की तुलना में आकार में बड़ा होता है। इसका रंग हल्का बादामी होता है।

चने के फायदे – Benefits of Chickpeas in Hindi

चने के फायदे सिर्फ पेट भरने तक सीमित नहीं होता हैं। बल्कि यह शरीर की कई तकलीफों में लाभदायक साबित हो सकता है। वहीं, इस बात का भी ध्यान रखा जाए कि चना किसी भी बीमारी का इलाज नहीं है। इसका सेवन शरीर को स्वस्थ रखने और बीमारियों से बचने के लिए किया जा सकता है। नीचे जानेगे चने खाने के फायदों के बारे में ।

1. वजन कम करने के लिए

मोटापे से परेशान लोग चने का सेवन कर सकते हैं। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि चने में ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। जो अत्यधिक भूख को नियंत्रित कर वजन घटाने में सहायता कर सकता है। इसमें मौजूद फाइबर कैलोरी के सेवन को कम कर अतिरिक्त मोटापे को नियंत्रित कर सकता है। वहीं, भूरा चना छिलके सहित खाया जाए, तो यह धीरे-धीरे पचता है और लंबे समय तक भूख का एहसास नहीं होता है। वेट लॉस के लिए इसका सेवन किया जा सकता है।

2. कैंसर

चना ब्लड शुगर और वजन घटाने से लेकर कैंसर जैसी घातक बीमारी से बचाव में मददगार हो सकता है। रिसर्च के अनुसार, चने में ब्यूटिरेट नामक फैटी एसिड पाया जाता है। जो सेल प्रोलिफरेशन यानी कोशिकाओं की संख्या में वृद्धि को दबाने, साथ ही एपोप्टोसिस (सेल मृत्यु) को प्रेरित कर कोलोरेक्टल कैंसर (कोलन कैंसर) से बचाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, चने में मौजूद लाइकोपीन, बायोइकनिन-ए और सैपोनिन्स जैसे बायोएक्टिव कमपाउंड कैंसर से बचाव में मददगार साबित हो सकते हैं।

3. रक्त शर्करा (ब्लड शुगर)

शरीर में रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में चना अहम भूमिका निभा सकता है। एक रिसर्च के अनुसार, चना शरीर में अतिरिक्त बल्ड शुगर को दबाने का काम कर सकता है। मधुमेह का एक कारण अधिक भूख लगना भी है और चना भूख को कम करने का काम कर सकता है। इसके पीछे लो ग्लाइसेमिक इंडेक्स (रक्त शर्करा के स्तर पर कार्बोहाइड्रेट का प्रभाव), फाइबर व प्रोटीन जैसे पोषक तत्वों का होना है।

4. पाचन तंत्र

पाचन स्वास्थ्य के लिए भी चने के फायदे बहुत हैं। इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है। इसलिए चना पेट संबंधी समस्याओं जैसे गैस, कब्ज, डायरिया व सख्त मल आदि को ठीक कर स्वस्थ पाचन को बढ़ाने में मदद करता है। एक रिपोर्ट के अनुसार फाइबर कब्ज जैसी स्थितियों के अलावा कोलन कैंसर के जोखिम को भी कम कर सकता है। पाचन के लिए अंकुरित चने के फायदे कई हैं। रोजाना सुबह खाली पेट अंकुरित चने खाने से पाचन क्रिया अच्छा रहता हैं।

5. हड्डी स्वास्थ्य

हड्डियों के लिए काबुली चना के फायदे बहुत हैं। यह कैल्शियम से समृद्ध होता है और कैल्शियम हड्डियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण तत्व है। यह हड्डियों को स्वस्थ बनाने और उन्हें मजबूत रखने में मदद करता है। शरीर कैल्शियम का निर्माण नहीं कर सकता है, इसलिए इसकी पूर्ति कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थों से की जाती है। मजबूत हड्डियों के लिए रोजाना चने का सेवन कर सकते हैं।

6. हृदय स्वास्थ्य और कोलेस्ट्रोल

हृदय के लिए भी चना खाने के बहुत फायदे हैं। चना पोटैशियम, फाइबर और विटामिन-सी व बी6 जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध होता है। फाइबर कोलेस्ट्रोल को कम करने में मदद कर सकता है, जो हृदय रोग का एक मुख्य कारण है। एक अध्ययन के अनुसार चने में मौजूद घुलनशील फाइबर और पोटैशियम हृदय रोग को रोकने में मदद कर सकते हैं।

7. एनीमिया के लिए

चना के औषधीय गुण एनीमिया जैसी घातक बीमारी से भी बचा सकते हैं। यह एक जानलेवा बीमारी है। जो सबसे ज्यादा महिलाओं में देखी जाती है। यह समस्या शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के विकास में बाधा के कारण होती है। इसके होने का सबसे बड़ा कारण आयरन की कमी है। वहीं, चना आयरन से समृद्ध होता है। इसलिए एनीमिया से निजात दिलाने में यह मदद कर सकता है। एनीमिया से बचने के लिए चने के साथ गुड़ का सेवन भी किया जा सकता है। ये दोनों ही शरीर में आयरन की पूर्ति करने का काम कर सकते हैं। गुड़-चने का सेवन बच्चों के लिए भी लाभदायक हो सकता है। यह ताकत तो देता ही है, साथ ही इम्यून सिस्टम को भी मजबूत कर सकता है। इसे एक सुपर-फूड कॉम्बो कहा जा सकता है।

8. आंखों के लिए

आंखों के लिए भी चने के फायदे बहुत हैं। चना β-कैरोटीन नामक तत्व से समृद्ध होता है। जो आंखों के लिए लाभदायक हो सकता है। ‘एज-रिलेटेड आई डिसीज स्टडी’ में पाया गया है , कि β-कैरोटीन एएमडी (नेत्र रोग, जिसमें आंखों की रोशनी चली जाती है) के जोखिम को कम कर सकता है। इसके अलावा, चने में विटामिन-सी भी पाया जाता है, जो आंखों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी है।

9. गर्भावस्था में सहायक

गर्भवती महिला के लिए भी काबुली चना के फायदे देखे गए हैं। इसका सबसे बड़ा कारण है, इसमें फोलेट का मौजूद होना। यह एक आवश्यक विटामिन-बी है, जो मां और भ्रूण दोनों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होता है। गर्भावस्था के पहले और गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त फोलिक एसिड बच्चे के मस्तिष्क या रीढ़ से जुड़े जन्म दोषों को रोकने में मदद कर सकता है।

10. महिलाओं में हार्मोन को कर सकता है नियंत्रित

चना एंटीऑक्सीडेंट गुणों से समृद्ध होता है, जो रजोनिवृत्ति (उम्र बढ़ने के साथ प्रजनन हार्मोन में गिरावट) और रजोनिवृत्ति के बाद के नकारात्मक लक्षणों को दूर करने का एक प्राकृतिक तरीका हो सकता है। एक अध्ययन में पाया गया है कि चना अपने एस्ट्रोजेनिक गुणों से रजोनिवृत्ति के लक्षणों और ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों का कमजोर होना) के उपचार में सहायक हो सकता है।

11. बाल झड़ने की समस्या

देखा गया है कि प्रोटीन की कमी से बाल पतले होकर झड़ने लगते हैं। चने काे जिंक, प्रोटीन और आयरन से समृद्ध माना गया है, इसलिए यह बाल झड़ने की समस्या से निजात दिला सकता हैं ।

12. दर्द व सूजन से राहत

दर्द व सूजन के लिए भी चना फायदेमंद हो सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, हाइपोकैलोरिक डाइट (कम कैलोरी युक्त आहार) के साथ चना दर्द व सूजन को कम कर सकता है। इसके अलावा, चने में मौजूद फाइबर और विटामिन-ए, सी, व बी6 जैसे पोषक तत्व सूजन से निजात दिलाने का काम कर सकते हैं।

13. प्रोटीन का अच्छा स्रोत

चना अन्य पोषक तत्वों के साथ-साथ प्रोटीन का भी अच्छा स्रोत है। एक कप चने में लगभग 14.53 ग्राम प्रोटीन मौजूद होता है। शरीर की कार्य प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए प्रोटीन की आवश्यकता होती है। मस्तिष्क की कोशिकाएं, त्वचा, बाल व मांसपेशियां सभी प्रोटीन आधारित होती हैं। शरीर की कोशिकाओं की मरम्मत और नई कोशिकाओं के विकास के लिए भी प्रोटीन की आवश्यकता होती है। प्रोटीन बच्चों, युवाओं और गर्भवती महिलाओं के शारीरिक विकास के लिए जरूरी है। चने का नियमित सेवन कर शरीर में प्रोटीन की पूर्ति कर सकते हैं।

ऐसे ही चना खाने का बहुत सारे फायदे है जिसका सेवन करने से हम खुद को स्वस्थ रख सकते है।

ALSO VISIT:

दीप माला गुप्ता

एडिटर: दीप माला गुप्ता

दीप माला गुप्ता रिपोर्टर, एंकर एवं वीडियो न्यूज़ एडिटर हैं। इन्होने जर्नलिजम में डिप्लोमा किया है। आप hindustan18.com के लिए रिपोर्टिंग एवं स्क्रिप्ट लिखने का कार्य करती हैं।

Next Post

लौकी और इसके जूस के फायदे और उपयोग

Wed Jul 14 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. लौकी और इसके जूस के फायदे और उपयोग Bottle Gourd and it’s Juice Benefits लौकी के बारे में हम सभी अच्छे से जानते है। यह एक प्रकार की […]
error: Content is protected !!