क्या आप रोज शिवलिंग पर जल चढ़ाते है? भूल कर भी नहीं करना ये गलतियाँ

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

क्या आप जानते हैं शिवलिंग पर जल चढ़ाने का सही तरीका

अगर आप शिव जी को प्रसन्न करने के लिए शिवलिंग पर नियमित रूप से जल अर्पित करते हैं तो आपको जल चढ़ाने का सही तरीका जानना बहुत जरुरी है।
शास्त्रों में पूजा-पाठ के कुछ विशेष नियम बनाए गए हैं। जिसका पालन आप करते होंगे। जैसे की पूजा के दौरान हमेशा सिर ढककर खड़े होना , सुहागिन स्त्रियां सोलह श्रृंगार करें, कभी भी अखंडित अक्षत भगवान् को न चढ़ाएं, गणेश जी को भूलकर भी तुलसी दल न चढ़ाएं। ऐसे ही कुछ नियम शिव लिंग के पूजन से भी जुड़े हुए हैं। जिसमें शिवलिंग पर जल अर्पित करने का तरीका मुख्य माना जाता है। इसे शुभ माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि शिव कृपा पाने के लिए पूरे नियम से शिवलिंग पर जल अर्पित करना चाहिए। क्योंकि जल धारा भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है, और नियम से इसे शिवलिंग पर चढ़ाने से भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। शिव जी की भी पूजा करने और उहने प्रसन्न करने कई बोहत सारे तरीके है। जैसे की उनकी पूजा करना, जल चढ़ाना, प्रसाद चढ़ाना इत्यादि। चलिए जानते है की शिव जी को जल किस दिशा में चढ़ाना चाहिए ।

किस दिशा की ओर चढ़ाएं जल

हमेशा जब भी शिवलिंग पर जल चढ़ाएं आपको ध्यान में रखना चाहिए कि, कभी भी पूर्व दिशा की ओर मुंह करके जल न चढ़ाएं। पूर्व दिशा को भगवान शिव का मुख्य प्रवेश द्वार माना जाता है, और इस दिशा की ओर मुख करने से शिव के द्वार में अवरोध होता है और वो रुष्ट हो जाते हैं। हमेशा उत्तर दिशा की ओर मुंह करके जल चढ़ाएं। क्योंकि उत्तर दिशा को शिव जी का बायां अंग माना जाता है। जो माता पार्वती को समर्पित है। इस दिशा की ओर मुंह करके जल अर्पित करने से भगवान शिव और माता पार्वती दोनों की कृपा दृष्टि प्राप्त होती है।

शिव जी को जल कौन से पात्र से अर्पित करें

शिवलिंग पर जल अर्पित करते समय सबसे ज्यादा ध्यान में रखने वाली बात ये है कि आप किस पात्र से जल अर्पित करें। जल चढ़ाने के लिए सबसे अच्छे पात्र तांबे, चांदी और कांसे के माने जाते हैं। भूलकर भी स्टील के पात्र से शिवलिंग पर जल नहीं चढ़ाना चाहिए। इससे शिव जी रुष्ट हो जाते हैं। जल अर्पण के लिए सर्वोत्तम पात्र तांबे का है। इसलिए इसी पात्र से जल चढ़ाना उत्तम है। लेकिन भूलकर भी तांबे के पात्र से शिव जी को दूध न चढ़ाएं क्योंकि तांबे में दूध विष के समान बन जाता है।

जल के साथ कुछ और न मिलाएं

ऐसा बताया गया है की कभी भी शिवलिंग पर जल चढ़ाते हुए जल के पात्र में कोई अन्य सामग्री न मिलाएं। कोई भी सामग्री जैसे पुष्प, अक्षत या रोली जल में मिलाने से उनकी पवित्रता ख़त्म हो जाती है। इसलिए भगवान शिव की कृपा दृष्टि पाने के लिए हमेशा जल को अकेले ही चढ़ाना चाहिए।

बैठकर चढ़ाएं जल

हमेशा शिवलिंग पर जल अर्पित करते समय ध्यान रखें कि बैठकर ही जल अर्पित करें। यहां तक कि रुद्राभिषेक करते समय भी खड़े नहीं होना चाहिए। पुराणों के अनुसार खड़े होकर शिवलिंग पर जल चढ़ाने से यह शिव जी को समर्पित नहीं होता है और इसका पुण्य प्राप्त नहीं होता है।

शंख से न चढ़ाएं शिवलिंग पर जल

कभी भी शिवलिंग पर शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए। ऐसा करने से शिव कृपा प्राप्त नहीं होती है। शिवपुराण के अनुसार, शिवजी ने शंखचूड़ नाम के दैत्य का वध किया था। ऐसा माना जाता है कि शंख उसी दैत्य की हड्डियों से बने होते हैं। इसलिए शिवलिंग पर शंख से जल नहीं चढ़ाना चाहिए।

जल तेजी से न चढ़ाएं

कभी भी शिवलिंग पर तेजी से जल नहीं चढ़ाना चाहिए। शास्त्रों में भी बताया गया है कि शिव जी को जल धारा अत्यंत प्रिय है। इसलिए जल चढ़ाते समय ध्यान रखें, कि जल के पात्र से धार बनाते हुए धीरे से जल अर्पित करें। पतली जल धार शिवलिंग पर चढाने से भगवान शिव की विशेष कृपा दृष्टि प्राप्त होती है।

अगर आप भी शिवलिंग पर जल अर्पित करते हैं इन सभी बातो का खाश ध्यान रखे।

ALSO VISIT:

दीप माला गुप्ता

एडिटर: दीप माला गुप्ता

दीप माला गुप्ता रिपोर्टर, एंकर एवं वीडियो न्यूज़ एडिटर हैं। इन्होने जर्नलिजम में डिप्लोमा किया है। आप hindustan18.com के लिए रिपोर्टिंग एवं स्क्रिप्ट लिखने का कार्य करती हैं।

Next Post

मेथी के दानों के सेवन से मिलते है चमत्कारी फायदे, जानिए कैसे

Thu Jul 15 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. मेथी के दानों के सेवन से मिलते है चमत्कारी फायदे, जानिए कैसे कहते हैं ना कि हर वो चीज जिसका स्वाद थोड़ा सा कड़वा होता है और जीभ […]
error: Content is protected !!