भारतीय रन मशीन की दास्तां

viratविराट कोहली भारतीय टीम के संकट मोचन है। 
टी20 वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 51 गेंदों पर 82 रन की पारी खेलकर विराट कोहली ने एक बार फिर  छाप छोड़ी है। विराट की इस ऐतिहासिक पारी की यादें सालों तक दिलों में रहेंगी। विराट ने अपनी पारी केसे खेली है ये तो सभी जानते है।
अपने छोटे से करियर में विराट ने बड़े-बड़े रिकॉर्ड अपने नाम किये है
विराट कोहली का जन्म 5 नवंबर 1988 को दिल्ली में हुआ था . उन्हें सब चीकू के नाम से भी संबोधित करते है. उनके परिवार में उनकी मा, एक भाई और बहन भी है. विराट के पिता का देहांत 2006 में हो गया था.
वह आक्रामकता और परफॉर्मेंस का अनोखा संगम है और उसे चुनौतियां का मुकाबला करना पसंद है। वह जिसे चाहता है, उसे हासिल करके दम लेता है, वह दबाव में बिखरता नहीं बल्कि निखर कर सामने आता है। उसमें द्रविड़ जैसा धैर्य है, सहवाग सी आक्रामकता है, उसका खेल सचिन जैसा नैसर्गिक है और वह गांगुली की तरह आगे बढ़कर लीड करना जानता है। वह भारत का टेस्ट टीम कप्तान है और उसके पास वह सब कुछ है जो एक 27 वर्षीय युवक केवल कल्पना ही कर सकता है। इतना सब हासिल करने क बावजूद खेल के प्रति उसकी लगन देखने लायक है। वह विराट कोहली है, वह भारत की रन मशीन है।
ये बात तो सभी जानते है कि विराट कोहली सचिन तेंदुलकर के बहुत बड़े प्रशंसक है, लेकिन क्या आप जानते है कि कोहली को एक बल्लेबाज और फील्डर के तौर पर दक्षिण अफ्रीकी खिलाड़ी हर्शल गिब्स बेहद पसंद थे। यही कारण था कि विराट अपनी फील्डिंग और बल्लेबाजी पर जमकर पसीना बहाते हैं।
कोहली पहली बार तब सुर्खियों में आए थे जब 2006 में एक रणजी मैच के दौरान उनके पिता के देहांत के बावजूद उन्होंने जबरदस्त दृढ़ता का परिचय देते हुए 90 रनों की पारी खेली थी जिससे दिल्ली वह मैच बचाने में कामयाब हो गई थी। कोहली ने जिस जबरदस्त साहस का परिचय दिया था वह आज भी फिरोजशाह कोटला के इतिहास में दर्ज है।
विराट को स्वादिष्ट खाना पसंद है जब वे दुनिया में कहीं भी यात्रा करते हैं। घर होने पर उन्हें अपनी मम्मी के हाथों की बनी मटन बिरयानी और खीर बहुत ही  पसंद है।
कोहली अपने फैशन सेंस के लिए भी जाने जाते हैं। उनका नाम 10 बेहतरीन कपड़े पहनने वालो  में शामिल हैं। इस सूची में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का नाम भी शामिल है।
2016 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ वन डे सीरीज के पहले मैच में कोहली छक्का मारने के चक्कर में 91 रनों पर लपके गए थे। मैच के बाद वसीम अकरम ने कोहली से पूछा आपको ऐसा शॉट मारने की क्या जरूरत थी आप आसानी से अपना शतक पूरा कर सकते थे। इस पर कोहली का जवाब था कि आप थोड़ा इंतजार कीजिए, मैं इस सीरीज में कम से कम दो शतक और लगाउंगा। कोहली का चार मैचों की उस सीरीज में स्कोर थाः 91, 59, 117 और 106.
कोहली को टैटूज का बेहद शौक है। वह अब तक चार टैटू अपने शरीर पर गुदवा चुके हैं। उनका पसंदीदा टैटू गोल्डन ड्रैगन है जो उन्होंने अपनी बांह पर गुदवा रखा है। कोहली के मुताबिक यह टैटू अच्छे लक का स्त्रोत है।
वन डे क्रिकेट के इतिहास में महज आठ बल्लेबाज है जो एक दिवसीय मैचों में 20 से अधिक शतक लगा चुके हैं और विराट कोहली उन आठ बल्लेबाजों में शामिल है। इसे अगर दूसरे तरीके से देखा जाए तो कोहली, राहुल द्रविड़, जैक कालिस, मैथ्यू हेडन, कुमार संगकारा और वीरेंद्र सहवाग जैसे दिग्गजों से ज्यादा शतक लगा चुके हैं और अभी वह महज 27 साल के है।
 

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized