पीएचसी व सीएचसी को मानक पर चलवाने को लेकर किसान मजदूर नेता जेपीभैया ने डीएम व सीएम को किया ट्वीट

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

गोण्डा- कोरोना महामारी के चलते शहरों से ज्यादा गांव की हालत खराब होती जा रही है। खबरों की माने तो गांव में लाशें ही लाशें उठ रहे हैं, लेकिन शासन और प्रशासन चाह कर भी कुछ नहीं कर पा रहा है। लाशों को नदियों में फेंका जा रहा है तथा जिनके पास पैसे नहीं है वह परिजनों की लाशों को नदी के किनारे या खेतों में गाड़ रहे हैं।

जहां एक और ऑक्सीजन व दवाई की किल्लत है वहीं प्रदेश में सबसे बड़ी समस्या है कि पीएचसी व सीएचसी बने तो हैं लेकिन वहां पर स्टाफ की भारी कमी है। जबकि प्रदेश में मेडिकल की पढ़ाई करने वालों, डिग्री धारकों की कोई कमी नहीं है। ऐसे में यदि सरकार भर्ती निकालकर सभी जगहों को भर देती है तो कोरोना से लड़ाई में भारी योगदान मिल सकता है। इन्हीं बातों को किसान मजदूर सेना के संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष जयप्रकाश दूबे उर्फ जेपीभैया ने पत्र के माध्यम से, ट्विटर के माध्यम से लगातार अधिकारियों व सत्ता में बैठे हुए लोगों को अवगत करा रहे हैं।

उनका कहना है कि यदि जितने पीएचसी मौजूद हैं उनको सुचारू रूप से चलाया जाए व सारे संसाधन उपलब्ध करवा दिए जाए तो कोरोना से भी खतरनाक बीमारी से निपटने में हमारे यहां के लोग सक्षम हो जाएंगे। जेपीभैया कहते हैं कि स्टाफ, दवाई, जांच की व्यवस्था पीएचसी में होने से एक तो हर बीमारी का प्राथमिक उपचार हो सकेगा साथ ही साथ पढ़े लिखे रोजगार पा सकेंगे। जेपीभैया का कहना है कि हमें और हमारी सरकारों को हर एक मुद्दे पर दूरदर्शी होना पड़ेगा तभी पब्लिक संगत जैसी बीमारियों को जड़ से खत्म करने में हम सफल हो सकेंगे व प्रदेश व देश शांति व समृद्धि को प्राप्त कर सकेंगे।

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

ताउते का तांडव: मुंबई से 175 किमी दूर भारतीय जहाज डूबा, नौसेना ने 146 की बचाई जान, 130 लोग लापता

Tue May 18 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. गुजरात तट से टकराकर ताउते के कमजोर होने की जानकारी मिल रही है। इधर अरब सागर में अनियंत्रित होकर एक जहाज बह गया, जिसमें सैकड़ों कर्मी सवार थे। […]
error: Content is protected !!