कैसे-कैसे नजारे देखे हैं भजन लिरिक्स – स्वामी राजेश्वरानंद जी

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

कैसे कैसे नज़ारे देखे हैं,
झुठे सच्चे सहारे देखे हैं,
ज़िन्दगी में ज़िन्दगी की नदिया के,
खुशी गम दो किनारे देखे हैं।

जो कभी थे सितारे हिन्द उनके भी,
गर्दिशो में सितारे देखे हैं।

पास आने पर जो डुबो ही डाले,
ऐसे भी कुछ किनारे देखे हैं।

बातों बातों में बात बन जाती,
मुर्शिदो के इशारे देखे हैं।

सुखी देखी नहीं ‘राजेश’ उनकी आंखें,
जो भी बन्दे तुम्हारे देखे हैं।

ज़िन्दगी में ज़िन्दगी की नदिया के,
खुशी गम दो किनारे देखे हैं।
कैसे कैसे नज़ारे देखे हैं,
झुठे सच्चे सहारे देखे हैं,

– परम पूज्य महाराज श्री राजेश्वरानंन्द जी


स्वामी राजेश्वरानंद जी भजन संग्रह पर जाएं


 

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

मौसम का हाल: देश के इन हिस्सों में भारी बारिश की चेतावनी

Mon Jun 21 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. नई दिल्ली – पिछले वर्ष की भांति इस बार भी मानसून बहुत ही सशक्त दिखाई पड़ रहा है। इस बार देश में बहुत अधिक बारिश होने की संभावना […]
Weather forecast, mansoon, heavy rain news
error: Content is protected !!