काया कुटिया निराली जमाने भर से भजन लिरिक्स

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

काया कुटिया निराली जमाने भर से स्वामी राजेश्वरानंद जी का भजन लिरिक्स

काया कुटिया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

सबसे सुन्दर आँख की खिड़की,
जिसमें पुतली काली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

सुनते श्रवण नासिका सूंघे,
वाणी करे बोला चाली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

लेना देना ये कर करते हैं,
पग चाल चले मतवाली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

मुख के भीतर रहती रसना,
षट रस स्वादों वाली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

काम क्रोध मद लोभ मोह से,
बुध्दि करे रखवाली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

करके संग इंद्रियो का मन,
ये बन बैठा जंजाली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

इस कुटिया का नित्य किराया,
स्वास् चुकाने वाली,
जमाने भर से।
काया कुटीया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।

काया कुटिया निराली,
जमाने भर से,
दस दरवाजे वाली,
जमाने भर से।।


स्वामी राजेश्वरानंद जी भजन संग्रह पर जाएं

 

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

किस लिए आस छोड़ें कभी न कभी भजन राजेश्वरानंद जी

Sun Jun 20 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. स्वामी राजेश्वरानंद जी का भजन – किस लिए आस छोड़ें कभी न कभी लिरिक्स किस लिए आस छोड़े, कभी ना कभी क्षण विरह के मिलन में बदल जाएंगे […]
error: Content is protected !!