परीक्षा के तनाव से बच्चों को केसे दिलाएं राहत ??

sweet little female latin child studying on desk lasking for help in stress with a tired face expression in children education and back to school concept isolated on white background

Exam के दिनों में students का  tense  होना  स्वाभाविक  है . मेरी  समझ  से  Tense होना  हमेशा  बुरा  नही  होता , यदि  tension आपको  कुछ  अच्छा  करने  के  लिए  push करे  तो  वो  ठीक  है . अगर  अपने  school days को  याद  करूँ  और  उसमे  से  exams और  class  tests को  हटा  दूँ  तो  शायद  जितनी  पढाई  की  उसकी  25% ही  की  होती . Exams हमें  पढने  के  लिए  force करते  हैं , और  पढने  से  हमें  knowledge मिलती  है , knowledge हमें  confidence देता  है , जो किसी भी काम को करने के लिए जरूरी है …तो  in a way अगर  exams नहीं  होते  तो  आज  मैं  जो  कर  पा  रहा  हूँ  वो  नहीं  कर  पाता

वातावरण को शांत बनाये रखें –

अपने घर को कर्फ्यूग्रस्त इलाका न बनायें। अपने बच्चे को शांत वातावरण में पढ़ने दे जिससे कि उसे पढ़ाई में एकाग्रता बनाये रखने में मदद मिलेगी।

बच्चों के सच्चे  दोस्त बनें –

बच्चों को परीक्षा काल में मातापिता से ज्यादा दोस्त की जरूरत होती है। अगर आप अपने आप को बच्चे की जगह रख कर सोचेंगे तो आप उसकी क्षमता तथा परीक्षा के लिये तनाव का एहसास कर पायेंगे।

बच्चों के साथ व्यायाम करें –

दौड़ना, टहलना, साइकिल चालाना आदि स्वस्थ व्यायाम आप बच्चों के साथ कर सकते हैं जो कि उसके परीक्षा तनाव को समाप्त करने में सहायक होगा।

बच्चे पर जरा साभी  दवाव न डालें –

बच्चे की पढ़ाई की क्षमता को समझना बहुत आवशायक है। बच्चों को आवश्यक अंक के लिये दवाव डालना ठीक नहीं है। अपने बच्चे पर उसकी क्षमता से अदिक अंक लाने के लिये दबाव डालने से उसके आत्मविश्वास को समाप्त कर देगा।

सकारात्मक सोच रखें –

जब माता पिता की सकारात्मक सोच होगी तो बच्चे भी वही सीखते हैं। इसलिये यदि आप बच्चे के साथ बैठ रहे हैं और उसकी पढ़ाई में मदद कर रहे हैं तो इस बात का ध्यान रखें कि आप बच्चे में सकारात्मक सोच डालें।

थाली में रंगबिरंगे भोजन  पदार्थ रखें –

जंक भोज्य पदार्थों को दूर रखें और सन्तुलित तथा पोषक आहार को अपनायें। उन भोज्य पदार्थों को सम्मिलित करें जिनसे बच्चे को एकाग्रता तथा याद रखने में मदद मिलती है।

उन्हें कुछ अल्पविराम लेने दें –

चूँकि पढ़ाई में जबरदस्त दवाव होता है इसलिये अपने बच्चे को चौबीसों घण्टे पढ़ाई के कमरे में न रहने दें। उसके लिये अल्पविराम की अवधि तय करें और उस दौरान तनाव से मुक्ति में उसकी मदद करें। पार्क में घूमना या फिर हल्के फुल्के मनोरंजन से काम चल जायेगा।

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized