किस लिए आस छोड़ें कभी न कभी भजन राजेश्वरानंद जी

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

स्वामी राजेश्वरानंद जी का भजन – किस लिए आस छोड़ें कभी न कभी लिरिक्स

किस लिए आस छोड़े, कभी ना कभी
क्षण विरह के मिलन में बदल जाएंगे
नाथ कब तक रहेंगे कड़े एक दिन,
देखकर प्रेम आंसू पिघल जाएंगे
किस लिए आंस छोड़ें…

सबरी केवट जटायु अहिल्याजी के,
पास पहुंचे स्वयं छोड़कर के अवध
ये हैं घटनाएं सच तो भरोसा हमें,
खुद-ब-खुद आप आकर के मिल जाएंगे
किस लिए आंस छोड़ें…

दर्श देने को रघुवर जी आएंगे जब,
हम ना मानेंगे अपनी चलाये बिना
जाने देंगे ना वापिस किसी शर्त पर,
बस कमल पद पकड़कर मचल जाएंगे
किस लिए आंस छोड़ें…

फिर सुनाएंगे खोटी-खरी आपको,
और पूछेंगे देरी लगाई कहां?
फिर निवेदन करेंगे न छोड़ो हमें,
प्रभु की जूठन प्रसादी पे पल जाएंगे
किसलिए आंस छोड़ें…

स्वप्न साकार होगा तभी राम जी,
“जन” पे हो जाए थोड़ी कृपा आपकी
पूर्ण कर दो मनोरथ यह “राजेश” का,
जाने कब प्राण तन से निकल जाएंगे

किसलिए आस छोड़ें कभी ना कभी,
क्षण विरह के मिलन में बदल जाएंगे

परम पूज्य महाराज श्री राजेश्वरानंन्द जी


स्वामी राजेश्वरानंद जी भजन संग्रह पर जाएं


 

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

मिट्टी काली पीली.....हरे वन, स्वामी राजेश्वरानंद सरस्वती जी का भजन लिरिक्स

Sun Jun 20 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. परम पूज्य स्वामी राजेश्वरानंद सरस्वती जी का यह भजन परमात्मा और प्रकृति के अद्भुत संयोग का समागम है। मिट्टी काली पीली…..हरे वन…..आसमान का रंग नीला, सूर्य सुनहरा चन्द्रमा […]
error: Content is protected !!