राकेश पांडेय उर्फ हनुमान के एनकाउंटर पर पिता ने उठाए सवाल, बाेले-घर से ले जाकर मार दिया

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

लखनऊ/मऊ – भाजपा विधायक कृष्णानंद राय हत्याकांड में आरोपी राकेश पांडेय उर्फ हनुमान को रविवार सुबह लखनऊ में यूपी पुलिस ने एक एनकाउंटर में मार गिराया है। उस पर एक लाख रुपये का इनाम था हालांकि यह इनाम कब रखा गया इसकी जानकारी किसी को नहीं है। राकेश पांडेय मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी का करीबी थे। खबरचियों के अनुसार मुन्ना बजरंगी की हत्या के बाद राकेश पांडेय मुख्तार अंसारी गैंग का बड़ा शूटर बन गया था।

राकेश पांडेय उर्फ हनुमान के पिता ने पुलिस पर उठाये सवाल, घर से ले जाकर मार दिया

सेना से सेवानिवृत्त राकेश पांडेय के पिता बालदत्त पांडेय ने यूपी एसटीएफ पर सवाल उठाए हैं। उन्होंनें कहा है कि उनके बेटे हनुमान को पुलिस ने लखनऊ स्थित आवास से शनिवार की रात तीन बजे उठाकर ले गई और एनकाउंटर कर दिया है। पुलिस द्वारा मारा गया उनका बेटा राकेश पाण्डेय अपनी मां का लखनऊ में इलाज करा रहा था जिससे वह आता जाता रहा रहता था। पिता ने सवाल किया है कि एक लाख का इनाम कब घोषित हुआ? कभी मामला सामने नहीं आया। ज्यादातर केस से वह बरी हो गया था और बाहर था।

मऊ पुलिस को भी थी तलाश

मुख्तार का शूटर राकेश पांडेय उर्फ हनुमान की तलाश में मऊ जिले की भी पुलिस तलाश में लगी थी। इसे लेकर घर पर कई बार कोपागंज थाने की पुलिस ने दबिश दी, लेकिन कोई पता नहीं चल सका था। लखनऊ में पुलिस एनकाउंटर में मारे जाने के बाद पुलिस ने राहत की सांस ली। मऊ जिले की पुलिस ने हनुमान की पत्नी सरोजलता पांडेय की वर्ष 2005 में अपने पति हनुमान की अपराधिक गतिविधियों को छुपाकर बंदूक का लाइसेंस बनवाने के मामले में दोषी पाते हुये लाइसेंस निरस्त कर हनुमान पांडेय पर भी केस दर्ज किया था। एसटीएफ के एनकाउंटर में हनुमान के मारे जाने पर पुलिस ने राहत की सांस ली।

कृष्णानंद और ठेकेदार हत्याकांड में आया सुर्खियों में गाजीपुर में भाजपा विधायक कृष्णा नंद और मऊ में ठेकेदार मन्ना सिंह की हत्या में राकेश उर्फ हनुमान पांडेय का नाम सुर्खियों में आया। हाल में ही कृष्णानंद हत्याकांड में मुख्तार समेत हनुमान व अन्य कई बरी हो गये थे।

पत्नी और बेटे का रोते रोते बुरा हाल गांव में शोक की लहर

राकेश उर्फ हनुमान पांडेय की पत्नी सरोजलता आंगनबाड़ी कार्यकत्री हैं जो अपने घर कोपागंज थाना क्षेत्र के लिलारी भरौली में रहती हैं। एक बेटा रोशन पांडेय है। घटना की जानकारी इन्हे टीवी देखकर हुई। गांव में मातमी सन्नाटा फैल गया है। परिजनों का रोते रोते बुरा हाल है।

मुकेश कुमार

एडिटर: मुकेश कुमार

Hindustan18-हिंदी में सम्पादक हैं। किसान मजदूर सेना (किमसे) में राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी के पद पर तैनात हैं।

Next Post

'ब्राह्मणों' पर शुरू हुई यूपी में सियासत, सपा के बाद मायावती ने ब्राह्मणों के लिए कहीं ये बातें

Sun Aug 9 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. लखनऊ।  2022 के विधानसभा चुना से पहले प्रदेश में जातिवाद की राजनीति शुरू हो गई है। इस बार भी सभी पार्टियों की नजर ब्राह्मण वोटों पर है। कुछ […]
error: Content is protected !!