दादी माँ के खज़ाने से मिला बालों के लिए एक मैजिकल हेयर पैक

दादी माँ के खज़ाने से मिला बालों के लिए एक मैजिकल हेयर पैक

स्किन एंड हेयर ब्यूटी में होममेड टिप्स और ट्रिक्स हमेशा ही काम के होते हैं।  बिजी लाइफ में वक्त की कमी एक ऐसी बला होती है जो आपको ऐसे ‘नैचुरल केयर’ जैसी हर संजीवनी बूटी से दूर कर देती है और इसमें हेयर केयर कॉस्मेटिक ब्यूटी वर्ल्ड मार्केट का भी बड़ा हाथ होता है। शैंपू, कंडीशनर, सीरम जैसी तमाम तरह की चीजें हैं जिनकी पैकेजिंग देखकर और दावों को सुनकर लगता है कि ये तो बस जादू ही कर देंगे। मैं इससे कैसे बच सकती थी, लेकिन बाद में बालों की घटती क्वांटिटी और क्वालिटी ने हकीकत भी मुझे जल्दी ही समझा दी। ऐसे में मैं कोई ऐसा फुल पैकेज ढूंढने लगी जो बिना ज्यादा मेहनत किए और टाइम दिए सचमुच में जादू करे। इसलिए मैंने दादी मां के खजाने से कुछ इंग्रीडिएंट्स को अपने मैजिकल पैक को बेस बनाया।
मुझे पता था केला और शहद बहुत अच्छे कंडीशनर हैं, घी एक बहुत अच्छा मॉइशचराइज़र, मेथी बाल टूटने से बचाते हैं और दही, काली मिर्च पाउडर+सेंधा नमक का मिक्स्चर डैंड्रफ खत्म भी करते हैं और इसे होने से भी रोकते हैं। सुबह-सुबह मुझे मिल्की लेकिन डार्क चाय पीने की भी बड़ी प्रॉब्लम है, जो इसमें भी मेरे लिए ज़रूरी बन गया।
एक कप दही में चुटकी भर काली मिर्च पाउडर, सेंधा नमक, एक चम्मच शहद,एक ज्यादा पका केला मैश कर इसमें एक चम्मच घी गर्म कर मिलाया। बची हुई चाय पत्ती में दो चम्मच मेथी के दाने मिलाकर अच्छे तरह बॉयल कर इसे भी उसमें मिलाया या यहां तक कि मैंने इसकी बजाय कई बार सिर्च बची हुई मिल्की टी भी यूज की है। अच्छी तरह मिलाकर इस पैक को बस 10 मिनट बालों में लगाकर रखा और रेग्युलर शैंपू कर लिया. पहली बार के बाद बालों पर इसका जो जादू दिखा उसके बाद मुझे किसी और सीक्रेट की ज़रूरत नहीं पड़ी।
बालों की खूबसूरती भले ही हर लड़की का सपना होता हो, लेकिन इसकी केयर एक बहुत बड़ी मुश्किल। इसके लिए कोई सेलिब्रिटी फैशनिस्ता होना भी ज़रूरी नहीं है, हर आम लड़की के लिए ये उसकी डेली लाइफ की प्रॉब्लम है। बाल लंबे हों या छोटे, घने हों या पतले, स्ट्रेट हों या कर्ली, शाइनी या बेजान, हर हाल में कोई भी लड़की ‘केयर कैसे करूं और क्या करूं? तेल कौन सा लगाऊं? शैंपू कौन सा लगाऊं? स्पा जाऊं, स्टाइल करूं या ना करूं? टाइम नहीं है तो ऐसा क्या ट्रिक लगाऊं कि बाल अच्छे भी रहें और नुकसान भी ना हों?’, जैसे जाने कितने सवाल हमारे सामने होते हैं। और ये लाजिमी भी है. हर आम लड़की की तरह मैं भी टीनेज से ही अपने बालों को लेकर बहुत सजग हो गई थी।
अब इसे मैं गॉड गिफ्ट कहूं या खुद की ही तरह अपनी बेटी के बालों के लिए केयरफुल मेरी मम्मी की एक्स्ट्रा मेहनत, कि मेरे बाल हमेशा ही बहुत खूबसूरत रहे. आयुर्वेद के बड़े डॉक्टर की पोती मेरी मां ने मेरे होश संभालने से पहले से ही इनपर जाने अपनी कितनी आयुर्वेदिक थैरेपीज आजमायी थी. उनकी ये मेहनत बेकार नहीं गई थी और टीनेज के मेरे लंबे, घने, शाइनी और काले बाल इसका प्रमाण थे। लेकिन उम्र के साथ बिजी होती लाइफ में ‘वक्त की कमी’ ने मुझे भी इस ‘नैचुरल केयर’ से कुछ वक्त के लिए दूर किया। हालांकि ज्यादा वक्त तक मैं इससे दूर रह नहीं सकी और इस मेरे ब्यूटी केयर एक्सपेरिमेंट्स का हिस्सा बन गए. और ये सच है कि दादी मां के खजाने के अलावा ये जादू कहीं नहीं है, बस आपको अपना एक मैजिकल ट्रिक पता लगने की देर है।
हो सकता है कि आपको अब तक अपना एक मैजिकल ट्रिक अब तक ना मिला हो, पर मुझे इस रूप में ये मिला और मैं दावे के साथ कह सकती हूं कि कोई भी शैंपू, सीरम, हेयर पैक और कंडीशनर 10 मिनट में इतने बाउंसी, शाइनी और सिल्की बाल नहीं दे सकते जो इससे मुझे मिला।
अगर आपका भी कोई सीक्रेट ट्रिक है, तो कमेंट बॉक्स में ज़रूर शेयर करें।
Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized