हिन्दू धर्म में क्यों वर्जित है स्त्री का नारियल फोड़ना!

हिंदू धर्म में नारियल को सबसे शुभ फल माना जाता है। अक्सर लोग किसी कार्य को शुरू करने से पहले सबसे पहले नारियल को फोड़ कर उसका शुभारंभ करते हैं। नारियल को श्रीफल के नाम से भी जाना जाता है। ऐसी मान्यता है की जब भगवान विष्णु ने पृथ्वी पर अवतार लिया तब वे अपने साथ तीन चीजें- लक्ष्मी, नारियल का वृक्ष तथा कामधेनु लाए इसलिए नारियल के वृक्ष को श्रीफल भी कहा जाता है।

श्रीफल का अर्थ

श्री का अर्थ है लक्ष्मी अर्थात नारियल लक्ष्मी व विष्णु का फल। नारियल में त्रिदेव अर्थात ब्रह्मा, विष्णु और महेश का वास होता है। श्रीफल भगवान शिव का परम प्रिय फल है। मान्यता मुताबिक नारियल में बनी तीन आंखों को त्रिनेत्र के रूप में देखा जाता है। श्रीफल खाने से शारीरिक दुर्बलता दूर होती है। इष्ट को नारियल चढ़ाने से धन संबंधी समस्याएं दूर हो जाती हैं।

हिंदू पूजन में नारियल अर्थात श्रीफल का एक अहम स्थान है। कोई भी वैदिक या दैविक पूजन प्रणाली श्रीफल के बलिदान के बिना अधूरी मानी जाती है। यह भी एक तथ्य है कि महिलाएं नारियल नहीं फोड़तीं। श्रीफल बीज रूप है, इसलिए इसे उत्पादन अर्थात प्रजनन का कारक माना जाता है।

Also Read:टमाटर के सोंदर्य वर्धक फायदे

श्रीफल को प्रजनन क्षमता से जोड़ा गया है। महिलाएं बीज रूप से ही शिशु को जन्म देती हैं और इसलिए नारी के लिए बीज रूपी नारियल को फोडऩा अशुभ माना गया है। देवी-देवताओं को श्रीफल चढ़ाने के बाद पुरुष ही इसे फोड़ते हैं। शनि की शांति हेतु नारियल के जल से शिवलिंग पर रुद्रभिषेक करने का शास्त्रीय विधान भी है।

वैदिक परंपरा मुताबिक श्रीफल शुभ, समृद्धि, सम्मान, उन्नति और सौभाग्य का सूचक माना जाता है। किसी को सम्मान देने के लिए उनी शॉल के साथ श्रीफल भी भेंट किया जाता है। भारतीय सामाजिक रीति-रिवाजों में भी शुभ शगुन के तौर पर श्रीफल भेंट करने की परंपरा युगों से चली आ रही है।

Also read:सुहागरात के अलग-अलग रिवाज की सच्चाई

विवाह की सुनिश्चित करने हेतु अर्थात तिलक के समय श्रीफल भेंट किया जाता है। बिदाई के समय नारियल व धनराशि भेंट की जाती है। यहां तक की अंतिम संस्कार के समय भी चिता के साथ नारियल जलाए जाते हैं। वैदिक अनुष्ठानों में कर्मकांड में सूखे नारियल को वेदी में होम किया जाता है। श्रीफल कैलोरी यानि उर्जा से भरपूर होता है।

You may also Like:

किस का मतलब क्या होता है….!! ये किस किस को पता है ?

सेक्स प्रारंभ करने के लिए सही उम्र क्या है?

लव बाइट के निशान दूर करने के घरेलु उपाय

आज की लड़कियां ‘तू नहीं, तो कोई और ही सही’ की तर्ज पर ले रहीं हैं सेक्स का आनंद

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized