मासिक के अलावा रक्त स्त्राव के सात प्रमुख कारण

पीरियड्स के अलावा इन 7 वजह से भी हो सकती हैं ब्लीडिंग

महिलाओं के लिए हर महीने ब्लीडिंग की तकलीफ से गुजरना एक आम बात है। जाहिर है पीरियड्स के दौरान ब्लीडिंग होगी ही और आप भी इसके बारे में बखूबी जानकारी रखते होंगे। पर क्या आपको ये जानकारी है कि मासिक धर्म यानि पीरियड्स के अलावा भी महिलाओं को ब्लीडिंग होने के कई अलग-अलग कारण हो सकते हैं। कुछ ऐसी बीमारियाँ महिलाओं के शरीर में घर कर जाती हैं जिनके कारण पीरियड्स की ही तरह ब्लीडिंग का सामना उन्हें करना पड़ता है। आईये आपको वजाइनल ब्लीडिंग के सात एहम कारण बताते हैं…

1. गर्भावस्था के दौरान भी कई महिलाओं को वजाइना से ब्लीडिंग होने की तकलीफ होती है। कई औरतों को प्रेगनेंसी के शुरुवाती महीनो में स्पॉटिंग या हल्की ब्लीडिंग की परेशानी होती है।

2. क्या आप यौन संचारित रोगों के बारे में जानते हैं ? यदि आप किसी यौन संचारित रोग से पीड़ित हैं जैसे गान्रीया, च्लाम्य्डिया, एचपीवी आदि तो आपको वजाइनल ब्लीडिंग हो सकती है।

3. गर्भनिरोधक उपकरण यदि आपने गर्भ निरोधक के रूप में वजाइना में इंट्रयूटरिन डिवाइस लगवाया है तो भी कभी-कभी आपको ब्लीडिंग की परेशानी हो सकती है।  ALSO READ: कैसे रहें एकदम फिट? Tips for a good fitness

4. कई बार यदि महिलाएं कुछ स्ट्रांग दवाईयां खा लेती हैं। जैसे की गर्भ निरोधक गोलियाँ और ब्लड थिनर्स तो इस कारण से भी हार्मोंस में असंतुलन होता है, जो वजाइनल ब्लीडिंग की समस्या को पैदा करता है।

5. थायराइड ग्रंथि का कम सक्रिय होना भी ब्लीडिंग की वजह बनता है, क्योंकि इसके कारण हार्मोंस में असंतुलन होता है जिसके कारण वजाइनल ब्लीडिंग होती है।

6. यूटीआई यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन (मूत्र मार्ग में संक्रमण) भी वजाइनल ब्लीडिंग का एक कारण हो सकता है। ALSO READ: Boyfriend की आदत है ऐसी तो न करें नजरअंदाज Tips for Girlfriends

7. पीसीओएस कई बार ऐसी महिलायें जो पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम से ग्रसित होती हैं उनमें हार्मोंस के उतार चढ़ाव के कारण पीरियड्स न होते हुए भी वजाइना से ब्लीडिंग होने की समस्या हो सकती है।

You may also Like:

फ़्लैट टैमी पाने के लिए तरल पदार्थ | Drink for flat tummy in hindi

गरमा गरम चाय पीना किसी जहर से कम नही

14 की उम्र में लड़के-लड़कियां पा लेते हैं यौन-सुख!

फोन पर बात करते हुए कुछ खास बातों का रखें ध्यान

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized