माइग्रेन : कारण, लक्षण, सावधानियाँ एवं घरेलु इलाज

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

माइग्र्रेन का अर्थ हिंदी में – Migraine Meaning in Hindi

माइग्रेन एक सर दर्द (सिरदर्द) का रोग है। जिसे आधा देखता है। सर दर्द भी कहते है, जो ज्यादातर आधे सर में होता है। माइग्रेन का दर्द कोई नॉर्मल सर दर्द नहीं होता है। ये दर्द सर के किसी एक भाग में काफी तेजी से होता है। जो इतना भयानक हो जाता है ,की रोगी ना तो चेन से बैठा पाता है और ना ही तो पाता है। जब सर में दर्द होने के बाद में आने लगे तब दर्द और भी दर्द देना वाला बन जाता है।

माइग्रेन का दर्द कुछ घंटो से ले कर कुछ दिनो तक रह जाता है। माइग्रेन में सर दर्द के समय सर के आला की धमानी बड़ी हो जाती है और सर के दर्द वाले जगह में सुजन भी आ जाती है। माइग्रेन के दर्द को कभी हल्के में नहीं लेना चाहिए क्योंकि माइग्रेन का दर्द लकवा और ब्रेन हैमरेज का कारन भी बन सकता है।

माइग्रेन के लक्षण क्या है?

  1. भुख कम लगना, जड़ पासेना आए।
  2. जडा तेज आवाज और रोशनी से घबड़ाहट होना।
  3. आधे सर में या फिर शुद्ध सर में भूत तेज दर्द होना।
  4. धुंधला दिखी देना या फिर आंखों में दर्द होना।
  5. जी मचलना, उलटी आना और किसी काम में ध्यान न लगना।
  6. हाथ, जोड़ी सुन्न पदना।
  7. कामजोरी महसूस होना।

अगर आपको आगे सर में दर्द होने के साथ में से कोई और लक्षण भी दिखी दे तो किसी डॉक्टर से टेस्ट जरूर करवाए।

माइग्रेन दर्द के कारण क्या है?

अभी तक सही तारिके से माइग्रेन के कारण का पता नहीं लग पाया है , पर सर दर्द के दौरा की पहचान कर माइग्रेन के दूर का आना कम किया जा सकता है।

  1. यादा कैफीन का सेवन करना।
  2. उच्च रक्तचाप।
  3. नींद पूरी ना होना या फिर जदा टेंशन लेना।
  4. काई बार मौसम बदलने से भी माइग्रेन हो जाता है।
  5. जरुरत से जड़ दर्द निवारक वली दावाओ का सेवन।
  6. हार्मोनल असंतुलन की वजह से भी माइग्रेन की समस्या हो सकती है। यही कारण है की माइग्रेन की समस्या औरतो में पुरुषो के मुकाबले ज्यादा होती है। हार्मोनल असंतुलन की समस्या में डॉक्टर से इस्का उपचार जरूर करवाना चाहिए ।

माइग्रेन में परहेज और सावधानिया (सावधानियां)

माइग्रेन से प्रभावित रोगी को कभी भी माइग्रेन का अटैक आ सकता है। इसलिये ये जरुरी है की दर्द से बचने के लिए कुछ सावधानियों को अपनाये ।

  1. भुखे ना रहे। माइग्रेन के मरीज को अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए और जरा सा भी खाली पेट नहीं रहना चाहिए।
  2. तनाव ना ले। ज्यादा तनाव और भाग दौड वाले काम करने से माइग्रेन का अटैक आ सकता है, इसलिये किसी भी चीज का जबरदस्त स्ट्रेस ना ले।
  3. रोजना योग और परनायम करे और खुद को तनाव से दूर रखने की कोषिश करे। मन और दिमाग को शांत रखने के लिए आप म्यूजिक भी सुन सकते हैं।
  4. ज्यादा पानी पिए। रोजाना 12 से 15 गिलास पानी पीये। रात को सोने से पहले ताम्बे के जग में पानी भर कर रखे और सुबह खाली पेट पिए।
  5. कभी कभी कुछ दवाओं की वजह से भी सिर दर्द की समस्या हो जाती है ।इसलिय डॉक्टर की सलाह के बिना कभी कोई इलाज ना ले।
  6. अच्छी नींद ले। जरुरत से ज्यादा सोना या फिर आधी नींद लेने से भी माइग्रेन का दर्द बढ़ सकता है।
  7. गलत तरीके से उठने बैठने से कमर और पीछे में दर्द होने लगता है। जो माइग्रेन के दर्द का वजह भी बन सकता है। इसलिये काम करते वक्त और
  8. आराम करते समय अपने आसन का ध्यान रखे।
  9. बाजार में माइग्रेन का इलाज करने की बहुत सी दवाएं मिलती है पर इन दवाओ के साइड इफेक्ट भी हो सकता है, इसलिये बिना डॉक्टर से सलाह लिए कोई भी दवा ना ले।
  10. तेज धूप में बहार न निकले, किसी वजह से अगर आपको बाहर जाना पड़े। तो सर पर कोई टोपी या दुपट्टा जरूर ले ।
  11. तीज रोशनी की तराफ न देखे और जदा ऊंची वाली वाली जगह पर जाने से बचे।
  12. कंप्यूटर चालाते समय या टीवी देखते वक्त ज्यादा पास न बैठे।
  13. मोबाइल या कंप्यूटर पर ज्यादा देर तक काम ना करे।
  14. किसी भी तरह के सिर दर्द को हलके में ना ले।
  15. कम रोशनी वाली जगह पर कोई बारिक काम ना करे।
  16. तेज गंध वाले इटार, खुशबू, दुर्गन्ध या परफ्यूम लगाने से परहेज करे।

माइग्रेन के इलाज के ५ आयुर्वेदिक और घरेलु उपाए हिंदी में

माइग्रेन का इलाज हिंदी में: जब सर का दर्द ज्यादा बढ़ा जाए की किसी दवा का असर भी ना हो, ऐसे में कुछ घरेलु नुस्खे अपना कर सिर दर्द से निजात पा सकते है।

  1. माइग्रेन का अटैक आने पर बिस्तर पर जाने दें और अपने सर को बिस्तर से आला लटका दे। अब सर के जिस हिसे में दर्द हो रहा है। हम तरफ वाली नाक में सरसो के तेल की कुछ बूंदे डाले और जोर से सांसो को ऊपर की तरफ खींचे । इस घरेलु उपाय को करने से जल्द ही सर दर्द में आराम मिलने लगेगा।
  2. अरोमा थेरेपी माइग्रेन के दर्द में काफी फायदा करता है। इस थेरपी में हरबल तेलो को भाप (भाप) दवारा चेहरे पर डाला जाता है और साथ में धीमे आवाज में म्यूजिक चला जाता है। जिससे दिमाग को आराम मिलता है।
  3. रोजना सुबह शाम गाय के शुद्ध देसी घी की 2-2 बूंद नाक में डालने से माइग्रेन के दर्द में आराम मिलता है।
  4. सुबह सूरज निकलने से पहले नारीयल और गुड के साथ छोटे चाने के ब्रबर कपूर मिक्स करके 3 दिन लगातार खाने से सर के दर्द में फायदा होता है।
    सिर की मालिश करे। माइग्रेन का सर दर्द होने पर सर पर जिस से दर्द हो वहा हल्के हाथों से मालिश करे। मालिस करने से पहले तेल को हलका गर्म जरूर कर ले। सर पर मालिस करने के साथ साथ बगीचा, कांधो, हाथो जोड़ा . मलिश करने के थोड़ी देर में आप को दर्द में आराम मिलने लगेगा।
  5. बर्फ़ या गरम पानी का परीक्षण कर के माइग्रेन का दर्द आसान से कर सकते हैं। माइग्रेन में कुछ लोगो को गरम चीज से राहत मिलती है और कुछ को ठंडे से। अगर आपको ठंडे से आराम मिलता है तो एक तोलिये को बर्फ वाले ठंडे पानी में कुछ डर भीगो कर रखे और फिर हमें तोलिए को दर्द वाले उसके पर रखे। कुछ ही डर में माइग्रेन दर्द से आराम मिलेगा।

ALSO VISIT :

पैरों में सूजन से छुटकारा पाने के घरेलू उपाय :- Home Remedies For Swollen Legs

शरीर में खून की कमी से है परेशान ,तो करे ये उपाय

अगर आप भी है परेशान सिगरेट के व्यसन से ,तो जानिए टिप्स

दीप माला गुप्ता

एडिटर: दीप माला गुप्ता

दीप माला गुप्ता रिपोर्टर, एंकर एवं वीडियो न्यूज़ एडिटर हैं। इन्होने जर्नलिजम में डिप्लोमा किया है। आप hindustan18.com के लिए रिपोर्टिंग एवं स्क्रिप्ट लिखने का कार्य करती हैं।

Next Post

विधायक की घुड़की के बाद भी क्षेत्र की विधुत आपूर्ति पुराने ढर्रे पर रही..

Tue Jun 29 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. धानेपुर-गोंडा: भीषण गर्मी में बिजली इस कदर लोगो को रुला रही कि बदन से आंसू बन कर पसीना बह रहा है। जी हाँ, आज कल यही हाल है […]
error: Content is protected !!