जाने “ऊँ नम: शिवाय”का अर्थ

भगवान शिव को देवो के भी देव माना जाता है। शिवजी हिन्दू धर्म में त्रिदेवों में से एक  हैं। हिन्दू मान्यतानुसार भगवान शिव संहार करने वाले माने जाते हैं। जो इस संसार में आताहै उसे जाना भी होता है और भगवान शिव इसी कार्य के कर्ता माने जाते हैं। भगवान शिवजी के विषय में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां शिव पुराण में दी गई हैं।

“ऊँ नम: शिवाय”का अर्थ

“ऊँ नम: शिवाय” यह षडक्षर मंत्र सभी दुख दूर करने वाला मंत्र माना गया है। ‘ऊँ’ भगवान शिव का एकाक्षर मंत्र हैं। ‘नम: शिवाय’ भगवान शिव का पंचाक्षरी मंत्र है।

भगवान शिव का परिवार 

शिवपुराण के अनुसार भगवान शिव के दो विवाह हुए। दोनों ही बार उनका विवाह भगवती के अवतारों से हुआ। पहला राजा दक्ष की पुत्री सती के साथ और दूसरा हिमालय पुत्री देवी पार्वती के साथ। शिवजी के दो पुत्र माने गए हैं कार्तिकेय और भगवान गणेश। कई जगह शिवांशों यानि शिव के अंशों का वर्णन किया गया जिनमें अंधक नामक शिवांश सबसे प्रमुख हैं।

शिवलिंग

विश्व कल्याण के लिए भगवान शिव संसार में शिवलिंग के रूप में विद्यमान हैं। कहा जाता है कि शिवलिंग में साक्षात भगवान शिव स्वंय वास करते हैं। भारत में कई जगह शिवलिंग पाए जाते हैं, इनमें से बारह अहम ज्योतिर्लिंग हैं जैसे काशी विश्वनाथ, सोमनाथ,मल्लिकार्जुन,महाकालेश्वर,ओंकारेश्वर,केदारनाथ,भीमाशंकर,त्र्यंबकेश्वर,वैद्यनाथ,नागेश्वरज्योतिर्लिंग,रामेश्वरमज्योतिर्लिंग, घृष्णेश्वर मन्दिर।

भगवान शिव की अतिप्रिय वस्तुएं

रुद्राक्ष

भगवान शिव के आभूषणों में रुद्राक्ष का अहम महत्व है। मान्यता है कि त्रिपुरासुर नामक राक्षस के वध के बाद भगवान शिव के नेत्रों से गिरे अश्रु बिन्दुओं से वृक्ष उत्पन्न हुए और रुद्राक्ष के नाम से प्रसिद्ध हुए।

भस्म 

भगवान भोलेनाथ भस्म में रमते हैं। मान्यता है कि शिवजी की पूजा भस्म के बिना पूर्ण नहीं होती।

बेलपत्र 

भगवान शंकर का एक नाम भोलेनाथ भी है क्योंकि वह बहुत जल्दी किसी की भी मनोकामना पूर्ण कर देते हैं। उनकी पूजा में छत्तीस भोग नहीं लगते वह तो मात्र भांग, धतूरे और बेलपत्र के चढ़ावे से प्रसन्न हो जाते हैं।

You may also like:

टमाटर के सोंदर्य वर्धक फायदे

नियमित सेक्स करने के सेहतमंद फायदे

शादी के बाद क्यों मोटी हो जाती है लड़कियां?

पहली बार महिला जब पुरुष के सम्पर्क में आती है तो होते हैं ये बदलाव

 

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized