पूर्व मंत्री पंडित सिंह के निधन के बाद बेटे सूरज की भी तबीयत बिगड़ी, लखनऊ ले जाने की सलाह

लखनऊ: यूपी के पूर्व मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह के निधन के बाद उनके बेटे की की तबीयत भी बिगड़ गई है। अयोध्या में पिता की अंत्येष्टि के बाद पैतृक आवास बललीपुर लौटे मंत्री के बेटे सूरज सिंह दो बार बेहोश हो गए। उन्हें सांस लेने में भी तकलीफ हो रही है। डाक्टरों ने उनकी हालत देखते हुए तत्काल लखनऊ ले जाने की सलाह दी है।

शुक्रवार की सुबह पूर्व मंत्री पंडित सिंह की कोरोना संक्रमण से मौत हो गई थी। इसके बाद शुक्रवार दोपहर बाद उनकी अंत्येष्टि अयोध्या सरयू घाट पर हुई। अंत्येष्टि के दौरान ही नाजुक स्थिति में रहे मंत्री के बेटे सूरज ने विधि विधान पूरा कराने के बाद घर लौटे। यहां पहुंचते ही उनकी हालत गंभीर हो गई। सूरज भी कोरोना संक्रमित हुए थे। बाद में उनकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इधर कई दिनों से पिता को लेकर लखनऊ में ही थे। फिलहाल जिला मुख्यालय से चिकित्सकों की टीम उनके घर भेजी गई है।

सादगी और सेवा की मिसाल थे पंडित सिंह
गोण्डा। समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता पूर्व कैबिनेट मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह की शुक्रवार की दोपहर बाद जैसे ही निधन की सूचना सोशल मीडिया में वायरल होती है पार्टी से जुड़े पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं में शोक की लहर दौड़ पड़ती है।

संघर्षमय रहा जीवन का सफर : विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह का जन्म 7 जनवरी 1962 को गोंडा जिले के बल्लीपुर में हुआ था। उनकी शिक्षा स्नातक तक हुई। 1996 में वह पहली बार तेरहवीं विधानसभा के सदस्य निर्वाचित हुए। फरवरी 2002 में समाजवादी पार्टी से विधायक चुने गए 2003 में पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के मंत्रिमंडल में चिकित्सा एवं शिक्षा राज्य मंत्री बनाए गए। सन 2012 में तीसरी बार वह फिर से समाजवादी पार्टी से विधायक चुने गए। मार्च 2012 में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के मंत्रिमंडल में राजस्व राज्य मंत्री बनाए गए अक्टूबर 2012 में उन्होंने किसी कारण से मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। कुछ समय बाद अखिलेश सरकार ने उनको कैबिनेट मंत्री कृषि के पद से नवाजा। सन 1996 से 2003 की अवधि के बीच वह लोक लेखा समिति सहित अन्य समितियों के सदस्य भी रहे। राजनैतिक सफर के दौरान उन्होंने अपनी बहू श्रद्धा सिंह को जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाया। बेहद सादगीपूर्ण राजनीतिक सफर तय करने वाले पंडित सिंह अक्सर विवादों में भी घिरे रहे लेकिन उनसे जल्दी उबर भी गए। खास बात ये थी कि राजनीतिक धुर विरोधियों के साथ ही उन्होंने कभी दुश्मनों जैसा व्यवहार नहीं रखा। कार्यकर्ताओं के बीच एक अभिभावक के रूप में जाने-पहचाने जाने वाले पूर्वमंत्री का सामाजिक सेवा में अतुलनीय योगदान रहा।

मुलायम और अखिलेश के थे बेहद करीबी : विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह अपने राजनैतिक सफर के दौरान डॉ. लोहिया के विचारों को आगे बढ़ाने के लिए समाजवादी पार्टी को अपने जीवन में उतारा। लोहिया के विचारो को जन जन तक पहुंचाने के लिए पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव और अखिलेश यादव के नेतृत्व में गोंडा में समाजवादी पार्टी को एक लय और ताल दी। पार्टी से जुड़े कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियो के सम्मान के लिए उन्होंने हमेशा लड़ाई लड़ी। एक समय जब जिले के दो राजनैतिक धुरंधर विनोद कुमार सिंह और बृजभूषण शरण सिंह के बीच राजनैतिक विवाद को लेकर आपस में मुठभेड़ हुई। जिसमें विनोद कुमार सिंह बुरी तरह जख्मी हो गए। उस दौर में जिला अस्पताल में इलाज की अच्छी व्यवस्था नही थी। मुलायम सिंह यादव को इस बात की जानकारी हुई तो उन्होंने विनोद कुमार सिंह के बेहतर इलाज के लिए लखनऊ से हेलीकॉप्टर भेजकर राजधानी में इलाज करवाया।

जब कोई नही था तब पंडित सिंह थे : जिले में करीब दो दशकों तक पण्डित सिंह का जलवा कायम रहा। एक समय ऐसा था जब जिले में कोई नही था पार्टी के कार्यकर्ताओं का खेवनहार तब पण्डित सिंह पार्टी से जुड़े कार्यकर्ताओं को आगे लेकर चलने वालो में थे। उस समय जिले में सामाजवादी पार्टी को पण्डित सिंह ने अलग से पहचान दी। कार्यकर्ताओं के सम्मान को लेकर वह जिले के किसी भी बड़े अफसर या अधिकारी से लड़ जाया करते थे।

शिक्षा के प्रति था लगाव : पूर्व कैबिनेट मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह जिले की शिक्षा व्यवस्था को लेकर संवेदनशील थे। उन्होंने अपने कार्यकाल के दौरान क्षेत्र में कई जगह अंग्रेजी और हिंदी माध्यम से कई विद्यालय संचालित किए साथ ही जिले के छात्र-छात्राओं की स्नातक और परास्नातक शिक्षा के साथ पैरा मेडिकल कालेज की स्थापना की।

पार्टी से जुड़े कार्यकर्ताओं ने दी श्रद्धांजलि : कोरोना से संक्रमित पूर्व मंत्री विनोद कुमार सिंह उर्फ पंडित सिंह का इलाज लखनऊ के निजी अस्पताल में चल रहा था। निधन की खबर सुनकर क्षेत्र के लोगों में शोक की लहर दौड़ पड़ी। शुक्रवार की शाम ब्लाक प्रमुख प्रतिनिधि इटियाथोक दद्दन खान के आवास पर एक शोक सभा का आयोजन किया गया। जिसमें पार्टी से जुड़े कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने पूर्व मंत्री पण्डित सिंह को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। श्री खान ने रुंधे गले से पूर्व मंत्री को खिराजे अकीदत पेश करते हुए कहा कि न हाथ थाम सके, न पकड़ सके दामन, बहुत करीब से उठकर चला गया कोई। अपनी और मंत्री की दोस्ती को बया करते हुए उन्होंने कहा समाजवादी पार्टी ने एक बेहतर पार्टी के पेशवा को खो दिया है। पूर्व प्रमुख जिला पंचायत सदस्य अनवर शकील चौधरी ने कहा कि सादगी और कार्यकर्ताओं से सीधा संवाद उनकी ऊर्जा थी। प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष सुरेश कुमार शुक्ला ने गहरा शोक जताते हुए कहा कि वे हर एक के अजीज थे।

किसान मजदूर सेना के संस्थापक ने दी है श्रधांजलि
किसान मजदूर सेना के संस्थपक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष ने पूर्व मंत्री को श्रधांजलि देते हुए कहा है कि गोंडा ने जमीन से जुदा हुआ नेता खो दिया।

लाल को खोकर बेहाल बल्लीपुर
नवाबगंज। पूर्व मंत्री पण्डित सिंह के निधन का समाचार पाते ही बललीपुर गांव में कोहराम मच गया। पहले तो लोगों ने इस खबर को अफवाह समझा पर पुष्टि होते ही पूरे गांव मे कोहराम मच गया। जो जहां था वहीं से पूर्व मंत्री के आवास के तरफ दौड़ने लगा, देखते ही देखते जिले के जिस सियासती सितारे के आंगन में हमेशा उत्सव मना करता था उसी आंगन में मातमी सन्नाटा पसर गया। घर के अंदर से वयोवृद्ध माता हंसराजी देवी और पुत्रवधू के चीखने चिल्लाने की आवाज से लोगों का हृदय कांप उठा। गांव में हर तरफ रोते बिलखते लोग नजर आने लगे। रोते हुए लोगों का आंसू पोछने वाला यहा कोई नही था। हर शख्स की आखे नम और चेहरे पर गम थी। पूर्वमंत्री के परिजन तो पूरी तरह से बदहवास दिखे।

Next Post

फलस्‍तीन पर इजरायल का सबसे भीषण हमला, गाजा में हमास के मुखिया का घर तबाह

Sun May 16 , 2021
इजरायल ने फलस्‍तीन में उग्रवादी संगठन हमास के ठ‍िकानों पर सबसे भीषण हमला शुरू कर द‍िया है। इजरायल के हमलों के जवाब में हमास ने भी रॉकेट हमले तेज कर द‍िए हैं। इजरायल और […]
error: Content is protected !!