परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन – Parishram Kare Koyi Kitna Bhi Lekin Lyrics Hindi

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

परिश्रम करे कोई कितना भी लेकिन ,
कृपा के बिना काम चलता नहीं है….
निराशा निशा नष्ट होती ना तब तक,
दया भानु जब तक निकलता नहीं…

दमित वासनाये अमित रूप ले जब,
अंतः करण में उपद्रव मचाती,
तब फ़िर कृपासिंधु श्री राम जी के
अनुग्रह बिना काम चलता नहीं है….

म्रगवारी जैसे असत इस जगत से
पुरुषार्थ के बल पे बचना है मुश्किल
श्री हरि के सेवक जो छल छोड़ बनते
उन्हें फ़िर ये संसार छलता नहीं है…..

सद्गुरू शुभाशीष पाने से पहले
जलता नहीं ग्यान दीपक भी घट में
बहती न तब तक समर्पण की सरिता
अहंकार जब तक की गलता नहीं है….

“राजेश्वरानन्द” आनंद अपना
पाकर ही लगता है जग जाल सपना
तन बदले कितने भी पर प्रभु भजन बिन
कभी जन का जीवन बदलता नहीं है….

परम पूज्य राजेश्वरानंद सरस्वती जी महाराज के भजन सत्संग


स्वामी राजेश्वरानंद जी – भजन संग्रह पर जाएं


 

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

कुछ समझ आता नही है क्या करें- स्वामी राजेश्वरानंद जी भजन लिरिक्स

Mon Jun 21 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. स्वामी राजेश्वरानंद सरस्वती जी की लिखी हुई यह पंक्तियां बहुत ही कमाल की हैं आपने इस नश्वर संसार का जिस तरह से बोध लोगों को कराया है वह […]
swami rajeshwaranabd saraswati ji ke bhajan
error: Content is protected !!