आलू के अचूक फायदे, उपयोग और नुकसान

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

आलू के अचूक फायदे, उपयोग और नुकसान – Potato Benefits, Uses and Side Effects in Hindi

आलू ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसका इस्तेमाल हम हर सब्जी या हर नास्ता हर जगह करते है। जिसे शाकाहारी और मांसाहारी हर तरह के व्यंजन में भी इस्तेमाल किया जाता है। खासकर, पश्चिम बंगाल जैसे राज्य में इसका प्रयोग अमूमन हर तरह की सब्जी में किया जाता है। यह सबसे आम सब्जी है, इसलिए लोग इसके गुणों को नजरअंदाज कर देते हैं। आलू कई सामान्य शारीरिक समस्याओं से लेकर कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी से रोकथाम कर सकता है। आलू के बोहत सरे फायदे है तो कई सारे गेरफायदे भी है। चलिए जानते है।

आलू के फायदे – Benefits of Potato in Hindi

आलू की गिनती एक स्वादिष्ट और पौष्टिक खाद्य पदार्थ में की जाती है। यह न सिर्फ पेट भरने करने का काम करता है, बल्कि इसमें मौजूद औषधीय गुण शारीरिक तकलीफों को दूर करने का काम भी करते हैं। यह फाइबर और पोटैशियम से भरपूर होता है। कब्ज व मोटापे जैसी समस्याओं से निजात दिलाने में फाइबर काम करता है और पोटैशियम शरीर में तरल को संतुलित करने का काम करता है। नीचे जानिए कि आलू के गुण किस प्रकार स्वास्थ्य को बढ़ावा देते हैं।

सेहत के लिए आलू के फायदे – Health Benefits of Potato in Hindi

1. रक्तचाप

रक्तचाप को नियंत्रित करने में भी आलू अहम भूमिका निभा सकता है। जैसा कि हमने ऊपर बताया है कि आलू पोटैशियम से समृद्ध होता है और पोटैशियम रक्तचाप को नियंत्रित करने का काम कर सकता है। इसके अलावा, आलू में मौजूद फाइबर रक्तचाप से पीड़ित मरीजों में हाइपरटेंशन के प्रभाव को कम कर सकता है। शरीर के रक्तचाप को नियंत्रित करने में विटामिन-सी की भूमिका भी देखी जा सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, विटामिन-सी युक्त सप्लीमेंट्स एसबीपी और डीबीपी (सिस्टोलिक और डायस्टोलिक रक्तचाप) को कम करने का काम कर सकते हैं। हालांकि, रक्तचाप पर विटामिन-सी के प्रभाव को बेहतर तरीके से जानने के लिए और शोध की आवश्यकता है।

2. हृदय स्वास्थ्य

हृदय स्वास्थ्य के लिए आलू फायदेमंद हो सकता है। यह कोलेस्ट्रॉल से मुक्त होता है, इसलिए इसका सेवन हृदय को स्वस्थ रखने के लिए किया जा सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार शरीर में बढ़ता कोलेस्ट्रॉल का स्तर हृदय को बुरी तरह प्रभावित कर सकता है।आलू फाइबर से समृद्ध होता है। जो वजन को नियंत्रित करने का काम करता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, बढ़ता वजन रक्तचाप को बढ़ाने का काम करता है और उच्च रक्तचाप स्ट्रोक का कारण बन सकता है। आलू में पोटैशियम जैसे तत्व भी पाए जाते हैं। जो हृदय को स्वस्थ रखने का काम कर सकते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, पोटैशियम युक्त भोजन का सेवन करने से रक्तचाप को नियंत्रित किया जा सकता है और रक्तचाप से जुड़े हृदय रोगों के जोखिम से बचा सकता है ।

3. हड्डी स्वास्थ्य

हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए भी आलू के फायदे देखे जा सकते हैं। आलू मैग्नीशियम से समृद्ध होता है, जिसे हड्डियों के लिए जरूरी पोषक तत्वों में गिना जाता है। रिपोर्ट के अनुसार, मैग्नीशियम हड्डियों के संरचनात्मक विकास (structural development) में मदद कर सकता है। आलू में हड्डियों के लिए सबसे जरूरी पोषक तत्व कैल्शियम भी पाया जाता है। हड्डियों के विकास और मजबूती के लिए कैल्शियम सबसे अहम भूमिका निभाता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, शरीर में कैल्शियम की कमी से ऑस्टियोपोरोसिस की समस्या हो सकती है, जिससे हड्डियां कमजोरी और नाजुक हो जाती हैं। इसके अलावा, कैल्शियम की कमी हड्डियों के विकास को रोकने के साथ-साथ फ्रैक्चर का कारण बन सकती हैं। शरीर में कैल्शियम की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने के लिए आप आलू को दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं।

4. पाचन

आलू के गुण पाचन तंत्र को स्वस्थ रखने के लिए भी देखे जा सकते हैं। जैसा कि हमने पहले बताया कि आलू फाइबर से समृद्ध होता है। जो पेट से जुड़ी समस्याओं पर प्रभावी रूप से काम करता है। फाइबर एक जरूरी पोषक तत्व है, जो पाचन को बढ़ावा देता है और कब्ज जैसी समस्याओं को दूर करने का काम करता है।

5. कैंसर

कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी के लिए भी आलू के फायदे देख जा सकते हैं। जैसा कि हमने ऊपर बताया कि आलू कोलेस्ट्रॉल से मुक्त होता है और एक रिपोर्ट के अनुसार कोलेस्ट्रॉल शरीर में कई प्रकार के कैंसर का कारण बन सकता है। हालांकि इसके लिए अभी भी और प्रमाण की आवश्यकता है। आलू को विटामिन-सी का अहम स्रोत माना गया है, जो एंटीऑक्सीडेंट की तरह काम करता है। इस प्रकार आलू कैंसर के विरुद्ध एक सुरक्षात्मक भूमिका निभा सकता है। वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार, विटामिन-सी का उपयोग कैंसर थेरेपी के लिए किया जा सकता है । आलू विटामिन, मिनरल्स, फैट, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से समृद्ध होता है, जो कैंसर से लड़ने के लिए शरीर को संपूर्ण पोषण प्रदान करते हैं ।

6. किडनी स्टोन

किडनी स्टोन को बाहर निकालने में भी आलू के फायदे देखे जा सकते हैं। आलू पोटैशियम का अच्छा स्रोत है और एक रिपोर्ट के अनुसार पोटैशियम की मदद से पथरी को ठीक किया जा सकता है। इसके अलावा, आलू में मौजूद फाइबर भी किडनी स्टोन को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, महिलाओं में मेनोपॉज के बाद फाइबर का सेवन किडनी स्टोन के विरुद्ध सुरक्षात्मक भूमिका अदा कर सकता है।

7. करता है सूजन कम

आलू के फायदे यहीं खत्म नहीं होते। सूजन की स्थिति में शरीर को आराम देने के लिए भी आलू का प्रयोग किया जा सकता है। यहां आलू के छिलकों की भूमिका देखी जा सकती है। एक रिपोर्ट के अनुसार, आलू और आलू का छिलका एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों से समृद्ध होता है, जो सूजन को कम करने का काम कर सकता है ।

8. डायरिया

डायरिया की स्थिति में भी आलू फायदेमंद हो सकता है। आलू में जिंक जैसे जरूरी पोषक तत्व होते हैं, जो डायरिया के रोकथाम में प्रभावी भूमिका निभा सकते हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार, जिंक का ओरल सप्लीमेंट एक्यूट डायरिया (जो तीन से पांच दिनों तक बना सकता है) को रोकने का काम कर सकता है। एक वैज्ञानिक रिसर्च में भी इस बात की पुष्टि की गई है कि एक्यूट डायरिया को रोकने के लिए जिंक ओरल सप्लीमेंट का प्रयोग किया जा सकता है ।

9. मस्तिष्क स्वास्थ्य

आलू में अल्फा लिपोइक नामक एसिड मौजूद होता है, जो मस्तिष्क के विकास में योगदान दे सकता है। वैज्ञानिक रिपोर्ट के अनुसार, लिपोइक अल्जाइमर से पीड़ित मरीज में याददाश्त को बढ़ाने का काम कर सकता है । इसके अलावा, आलू विटामिन-सी भी समृद्ध होता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, विटामिन-सी न्यूरोट्रांसमीटर नामक एक खास ब्रेन केमिकल का उत्पादन करने का काम करता है। न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में सुधार करने का काम कर सकता है, जैसी मूड व नींद को नियंत्रित करने का काम आदि ।

10. नींद को बढ़ावा

आलू खाने के फायदे में नींद को बढ़ावा देना भी शामिल है। जैसा कि हमने बताया कि आलू विटामिन-सी से समृद्ध होता है और विटामिन-सी न्यूरोट्रांसमीटर (ब्रेन केमिकल) का उत्पादन करता है । न्यूरोट्रांसमीटर मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में सुधार कर मूड और नींद को नियंत्रित करने का काम कर सकता है । इसके अलावा, विटामिन-सी चिंता, तनाव, अवसाद व थकान को दूर करने का काम कर सकता है, जिससे नींद को बढ़ावा मिल सकता है।

11. रोग प्रतिरोधक क्षमता

शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने में भी आलू खाने के फायदे देखे जा सकते हैं। जैसा कि हमने पहले बताया कि आलू विटामिन-सी से समृद्ध होता है, जिसे कारगर इम्यूनिटी बूस्टर के रूप में जाना जाता है। विटामिन-सी एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट है, जो प्रतिरक्षा प्रणाली को संचालित करने में एक अहम भूमिका निभाता है। साथ ही शरीर में आयरन जैसे पोषक तत्वों को अवशोषित (Absorption) करने में भी मदद करता है।

12. कोलेस्ट्रॉल

कोलेस्ट्रॉल रक्त में पाया जाने वाला एक पदार्थ है। यह शरीर में स्वस्थ कोशिकाओं के निर्माण में मदद करता है, लेकिन रक्त में कोलेस्ट्रॉल की अधिकता हृदय रोग और स्ट्रोक का कारण बन सकती है। आलू कोलेस्ट्रॉल फ्री होता है, यानी इसका सेवन कोलेस्ट्रॉल बढ़ने की चिंता किए बिना किया जा सकता है ।

आलू के नुकसान – Side Effects of Potato in Hindi

इसमें कोई शक नहीं है कि आलू गुणकारी खाद्य पदार्थ है, लेकिन इसका अधिक सेवन शरीर के लिए हानिकारक भी बन सकता है।

आलू कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होता है और कार्बोहाइड्रेट की अधिक मात्रा कैलोरी बढ़ा सकती है, जिससे मोटापे का सामना करना पड़ सकता है। आलू यदि अंकुरित हो गया है तो उसका सेवन नहीं करना चाहिए।आलू पोटैशियम से भी समृद्ध होता है और अधिक पोटैशियम का सेवन हाइपरकलेमिया का कारण बन सकता है। इससे उल्टी, छाती में दर्द, सांस लेने में तकलीफ और मतली जैसी समस्याएं हो सकती हैं ।
आलू का अत्यधिक सेवन टाइप 2 डायबिटीज का कारण भी बन सकता है , आलू एक हाई ग्लिसेमिक खाद्य पदार्थ है। इसका पाचन जल्दी होता है और ब्लड शुगर के बढ़ने का खतरा होता है। इसलिए मधुमेह के मरीजों को इसका सेवन सीमित में ही करने की सलाह दी जाती है।

ये थे शरीर के लिए आलू के सबसे चमत्कारी फायदे। किसी भी शारीरिक समस्या से परेशान हैं, तो आलू को अपने दैनिक आहार में शामिल कर सकते हैं। साथ ही ध्यान रहे कि इसका अत्यधिक सेवन बताए गए मुश्किलों का कारण बन सकता है। खासकर, मधुमेह के मरीज डॉक्टरी परामर्श पर ही आलू का सेवन करें। उम्मीद है की आलू के फायदों पर लिखा यह लेख आपके लिए मददगार साबित होगा।

आलू के प्रकार – Types of Potato in Hindi

आलू भी कई रंग और आकार के मिलते है जिसे आमतौर पर आप ने बाजार में देखा ही होगा। जानते है आलू के प्रकार के बारे में

बैंगनी आलू : यह बैंगनी रंग का होता है। आलू का यह प्रकार ग्रिलिंग, बेकिंग और रोस्टिंग के लिए एकदम सही हैं।

सफेद आलू : यह आलू दिखने में सफदे रंग का होता है और खूबसूरत नजर आता है। खाने में यह भी लाजवाब होता है। आप इसे उबालकर या रोस्ट करके खा सकते हैं। इसका इस्तेमाल ज़्यदातर सब्जियों में होता है।

रसेट आलू : यह रसेट आलू क्या है? यह आलू का सबसे आम प्रकार है। यह छोटे, मध्यम और बड़े आकार का होता है और इनका रंग भूरा (त्वचा के रंग जैसा) होता है। यह खाने में स्वादिष्ट होता है और अमूमन सब्जी बनाने के लिए सबसे ज्यादा इसी का उपयोग किया जाता है।
लाल आलू : यह लाल रंग को होता है। यह खाने में बहुत ही स्वादिष्ट होता है। जिसका इस्तेमाल कर आप सूप और सलाद बनाने के लिए कर सकते हैं। इसके अलावा, आप इन्हें भूनकर भी खा सकते हैं।

पीले आलू : नाम के अनुसार इस आलू का रंग पीला होता है। खासकर, मांसाहारी व्यंजनों में इसका इस्तेमाल ज्यादा होता है। यह उन पकवानों के लिए खास है, जिन्हें ग्रिल या रोस्ट किया जाता है।

ALSO VISIT:

दीप माला गुप्ता

एडिटर: दीप माला गुप्ता

दीप माला गुप्ता रिपोर्टर, एंकर एवं वीडियो न्यूज़ एडिटर हैं। इन्होने जर्नलिजम में डिप्लोमा किया है। आप hindustan18.com के लिए रिपोर्टिंग एवं स्क्रिप्ट लिखने का कार्य करती हैं।

Next Post

क्या आप जानते है, चाय का अधिक सेवन करने से हो सकता है नुकसान

Tue Jul 13 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. क्या आप जानते है, चाय का अधिक सेवन करने से हो सकता है नुकसान चाय बच्चो से लेके बूढ़े छोटे से लेके बड़े हर किसी की पहली पसंद […]
error: Content is protected !!