सेक्स सर्वे- महिलाएं भी पुरुषों से कम नहीं, जानें क्या है आज के नारी की सोंच

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

आज की भागदौड़ भरी लाइफ में इंसान मशीन की तरह काम करता रहता है। इस दौर में नई पीढ़ी ने अपने काम से समय निकाल कर एंजॉयमेंट के नए-नए तरीकों व नए-नए आयामों तक पहुंचने की कोशिश की है। शहर हो या गांव अब धीरे-धीरे सेक्स को लेकर खुला पान होता जा रहा है। पहले लड़कों व लड़कियों में बहुत दूरियां होती थीं लेकिन आज समझ विकसित होने के कारण मेल फीमेल आसानी से शारीरिक संबंध बना रहे हैं। सुनरोस एशिया नामक एक संस्था ने भारत में सेक्स को लेकर एक सर्वे कराया है जिसकी रिपोर्ट को हम यहां पर प्रस्तुत कर रहे हैं।

शारीरिक संबंध के लिए हां बोलने में लड़कों से आगे लड़कियां

दिल्ली, मुंबई व बेंगलुरु शहरों में 350 लड़कियों पर यह सर्वे कराया गया। लड़कियां कॉलेज जाने वाली, नौकरी पेशा करने वालीं तथा आम जीवन जीने वाली थीं। उन्होंने बताया कि आज के समय में लोग अपने कैरियर पर फोकस करते हैं। जिससे शादी बहुत देर से करती हैं। ऐसे में शारीरिक संबंध बनाना उनकी आवश्यकता होती है। इसमें वह जरा भी हिचकिचाहट नहीं करतीं हैं। लड़कियों ने यह भी माना है कई बार उन्होंने पुरुषों को खुद ब खुद अपने सेक्स डिजायर के बारे में बताएं हैं और शारीरिक संबंध स्थापित किये हैं।

कई लड़कियों ने माना एक से अधिक पुरुषों के साथ संबंध होना सही

सर्वे में 76% लड़कियों ने माना कि उनके एक से अधिक बॉयफ्रेंड अथवा पुरुष मित्रों के साथ संबंध स्थापित हुए हैं। उन्होंने माना है यह सब नॉर्मल है। लड़कियों ने कहा “इन सब बातों को अभी तक बहुत ज्यादा छिपाकर रखा जाता था या शर्म का विषय माना जाता था जबकि ऐसा सही नहीं है। सेक्स हमारी भी जरूरत है और ऐसा करके हमें सुख और शांति का अनुभव होता है। यह आनंद का विषय है और यह हमें आजमाना चाहिए। अधिकतर लड़कियों ने कहा यदि किसी का पुरुष मित्र उसे खुश नहीं रख सकता है तो उसे दूसरे पुरुष की तलाश करनी चाहिए।

सेक्स संबंध के लिए उम्र मायने नहीं

सर्वे रिपोर्ट के अनुसार अधिक से ज्यादातर महिलाओं का जवाब रहा कि उन्होंने संबध बनाने के लिए पार्टनर की उम्र पर ध्यान नहीं दिया। कुछ महिलाओं ने माना कि उनके पुरुष मित्र की आयु उनकी आयु से काफी कम थी। वहीं कुछ ने माना कि उनके पुरुष मित्रों की उम्र उनकी उम्र से काफी अधिक थी। महिलाओं ने माना कि सिर्फ अच्छे, मिलनसार व विश्वास पात्र पुरुषों के साथ संबंध बनाने में कोई बुराई नहीं है। फिलहाल वह उनको जानती हों ताकि किसी प्रकार की रिस्क न हो।

ग्रुप सेक्स भी अब आम बात

सर्वे में खुलासा हुआ है कि अब लड़कियां पहले की तरह एक अथवा एकांत सेक्स से ऊपर उठकर सामूहिक सेक्स का आंनद लेने में पीछे नही हैं। कुछ ने माना कि उन्होंने सामूहिक सेक्स किया है तो वहीं कुछ ने कहा कि वह भविष्य में ऐसा करना चाहेंगीं। वहीं कुछ ने सामूहिक सेक्स को सही नहीं माना है।

सेक्स पर ही टिकी है दुनिया

सर्वे के हेड डॉक्टर देवेंद्र मोहन व डॉ नीता अग्रवाल बताते हैं कि हमारी पूरी धरती व पूरा जीवन चक्र सेक्स पर ही आधारित है। भारत में भी लड़कियां अब आसानी से लिव इन रिलेशन, फ़्रेंफशिप के जरिये योवन सुख लेने लगीं हैं। इसी क्रम में भारत सरकार ने भी 18 साल से ऊपर अपनी मर्जी से सेक्स करने की इजाजत दे दी है। अब कानून किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाने की इजाजत देता है। वर्तमान समय में तो पुरुषों से पुरुषों के बीच तथा महिलाओं से महिलाओं के बीच न सिर्फ सेक्स संबंध बनाने बल्कि विवाह करने का भी कानून पास हो चुका है। समलैंगिक कानून के साथ-साथ अब किसी का पति अथवा किसी की पत्नी किसी अन्य के साथ शारीरिक संबंध बनाती है तो वह किसी प्रकार का अपराध नहीं है। उन्होंने बताया कि इस सर्वे में जितनी भी बातें खुलकर आई हैं उससे यह लगता है भारत में भी अब महिलाएं सेक्स को लेकर काफी जागरूक हो गई हैं। आज की पीढ़ी की महिला पुरानी सोच को छोड़ते हुए घूमना फिरना, पार्टी करना और वह सब करना चाहती हैं जो एक पुरुष कर सकता है। महिलाएं भी बढ़ चढ़ कर लाइफ एन्जॉय कर रही हैं और वह भी जीवन का सुख ले रही हैं।

डॉ अग्रवाल ने कहा कि सर्वे में शामिल हुई लड़कियां हुई हैं वह लोवर मिडिल एवं मिडिल क्लास परिवारों से थीं। लेकिन जो बातें सामने आई है उससे एक चीज साफ है कि पुराने ख्यालों को छोड़कर आज की पीढ़ी की महिलाएं व पुरुष अब अपने आपको एक बेहतर जिंदगी देना चाहते हैं। महिलाएं जिंदगी को खुलकर जीने की कोशिश कर रही हैं जिसमें काफी हद तक सफलता मिल रही है। महिलाओं के खुलकर जीने से उनका जीवन स्तर पर अच्छा हुआ है। महिलाओं के परिवार से भी अब आजादी मिलने लगी है ताकि वह भी पुरुषों की तरह घूम सकें,आउटडोर जा सकें। अपनी पसंद के पुरुष मित्र बना सकें तथा शारीरिक सुख के साथ-साथ दुनिया की तमाम चीजों का उपभोग कर सकें।

सर्वे में शामिल हुई लड़कियां अधिकतर अविवाहित थीं, जिनकी उम्र 18 से लेकर 27 साल के बीच थी। यह सर्वे संस्था द्वारा सेक्स जागरूकता व भविष्य में महिलाओं का जीवन स्तर कैसा होने वाला है यह जानने के उद्देश्य से किया गया है।

Surendra Negi

एडिटर: Surendra Negi

Next Post

इन आदतों से धीरे धीरे कमजोर हो सकती है किडनी, जानिए कैसे

Sat Jul 10 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. इन आदतों से धीरे धीरे कमजोर हो सकती है किडनी पिछले कुछ समय से हमारे बिच किडनी फेलियर की बीमारी बढती जा रही है। इसकी मुख्य वजह है […]
error: Content is protected !!