गरीबी की जडें गहरी है इस देश में – पीएम मोदी।

लोकसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद पीएम मोदी जवाब दे रहे है, मोदी ने सदन में पूर्व पीएम राजीव गांधी की अच्छी बातों को भी याद किया, जिस पर कांग्रेस की तरफ से भी तालियाँ बजायीं गयीं ।
प्रधानमंत्री के भाषण की प्रमुख  बातें:

विपक्ष के तेजस्वी सांसदों की प्रतिभा सामने उभरकर ना आ जाए इसलिए संसद की कार्यवाही रोकी जाती है- पीएम मोदी।
हीन भावना की वजह से संसद नहीं चलने दिया जाता।
मैं दोनों सदनों में महत्वपूर्ण विधेयकों को पास करवाने में मदद करने के लिए विपक्ष से सहयोग का आह्वान करता हूं।
हमें किसी का मजाक नहीं उड़ाना चाहिए, मेक इन इंडिया का मजाक उड़ाया जा रहा है, अगर ये सफल नहीं हुआ तो इसे सफल करने पर चर्चा की जानी चाहिए।
ऐसा कहा जा रहा है कि हम भीख का कटोरा लेकर निकले है, और जब हम कहते है तो दूसरे लोग इसे और जोर से कहते है, ये मैं नहीं बल्कि इंदिरा गांधी कहती थी।

इस देश की सबसे बड़ी चुनौती है तेजी से हो रहे बदलाव का विरोध, ये विरोध पढ़ा-लिखा तबका भी मुखर होकर करता है।
आपने टॉयलेट नहीं बनवाए, इसलिए हमने 4 लाख टॉयलेट बनवाए।
बांग्लादेश से सीमा विवाद आप नहीं सुलझा पाए इसलिए हमने इसे सुलझाया। ये सब आपकी ही देन है और आप कहते है हमने छोड़ा तो आपने करवाया।
गरीबी की जडें गहरी है इस देश में- पीएम मोदी।
मनरेगा हमारी सफलता का स्मारक नहीं है, हमने इस देश में गरीबों को मिट्टी उठाने और खड्डा खोदने के लिए मजबूर किया है।
सीएजी ने लिखा है कि जहां गरीबों की संख्या कम है, ऐसे राज्यों में मनरेगा का पूरा इस्तेमाल हुआ लेकिन वास्तव में गरीब राज्यों को इसका फायदा नहीं मिला।
हमने जनधन, आधार और मोबाइल योजना के जरिये इस दिशा में आई दिक्कतों को दूर करने के लिए काम किया है- पीएम मोदी।
हमारा दायित्व है कि इन योजनाओं का क्रमिक विकास हो, उसे जारी रखें, अगर गरीबी ना होती तो नरेगा या मनरेगा की जरुरत ना होती, गरीबी की जड़ें इतनी गहरी है कि मुझे कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है- पीएम मोदी।
जब आपके पास कहने के लिए कुछ नहीं होता तो गुजरात का जिक्र होता है यह आपके दिवालियेपन का प्रतीक है।

अटल जी के समय शुरु हुई प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना का फायदा उन राज्यों को ज्यादा मिला जो गरीब थे, केन्द्र का पैसा मनरेगा को भी गया और सड़क योजना को भी गया लेकिन परिसंपत्तियों का निर्माण सड़क योजना के जरिये हुआ- पीएम मोदी।
लोग आपसे पूछेंगे कि खाद्य सुरक्षा कार्यक्रम से केरल, मिजोरम और अरुणाचल जैसे राज्यों को क्यों अलग रखा गया ?

पीएम मोदी ने विपक्ष पर ली चुटकी
कहा विपक्ष की चिंता इस बात की है कि तुम मुझसे बेहतर कैसे कर सकते हो।
पर उपदेश कुशल बहुतेरे, मैं लगातार लोगों के उपदेश सुन रहा हूं, 14 साल में मैं इसके साथ जीना सीख चुका हूं- पीएम।

मैं कैसे कह सकता हूं, कि रेल मैने शुरु किया, आप कह सकते है, आप तो कुछ भी कह सकते है- पीएम।
यह देश उस बात को कभी नहीं भूल सकता कि 27 सितंबर 2013 को डॉ. मनमोहन सिंह की सरकार द्वारा लाए गए अध्यादेश को फाड़ दिया गया, बड़ो का ऐसा अपमान देश कभी नहीं भूलेगा- पीएम।
मोदी ने कहा, अखबार की सुर्खियां बनने के लिए संसद में तू-तू मैं-मैं ठीक नहीं है। इस देश के नागरिक हमसे बहुत कुछ नहीं मांग रहे हैं, हमें देश के लोगों पर भरोसा करना होगा।
सुधार के लिए हमें आपकी मदद चाहिए। मैं नया हूं। हमें आपके अनुभव की जरूरत हैः लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी।

Hindi Desk
Author: Hindi Desk

Posted Under Uncategorized