मन सीतराम जप लो घड़ी घड़ी, है भव रोग मिटाने वाली राम नाम एक सफ़ल जड़ी, मन सीताराम… भक्ति ग्यान बैराग्य मिलेगा, बात बनेगी सब बिगड़ी, मन सीताराम… जीवन में आती हरियाली,जब राम नाम […]

सब जग को रही नचाये, हरिमाया जादूगरनी अति अदभुत खेल रचाय्, हरिमाया जादूगरनी। कोऊ याको पार ना पावे, यह सबको नाच नचावै दुख में सुख को दरसाये, हरिमाया जादूगरनी….. जाके बस में चराचर नाचै […]

जीवन है तेरे हवाले मुरलिया वाले, अपने चरण का दास बनाके-3 वृंदावन में बसा ले,मुरलिया वाले…. हम कठपुतली तेरे हाथ की-3 जैसे भी चाहे नचा ले,मुरलिया वाले….. मेरे अपने हुये न अपने-3 अब तो […]

स्वामी राजेश्वरानंद सरस्वती जी की लिखी हुई यह पंक्तियां बहुत ही कमाल की हैं आपने इस नश्वर संसार का जिस तरह से बोध लोगों को कराया है वह अद्भुत है स्वामी राजेश्वरानंद सरस्वती जी […]

देख लिया संसार हमने देख लिया (Dekh Liya Sansar Hamne Dekh Liya) स्वामी राजेश्वरानन्द जी देख लिया संसार हमने देख लिया, सब मतलब के यार हमने देख लिया । तन निरोग धन जेब में […]

error: Content is protected !!