आज है विश्व हिंदी दिवस, जानें इसे 10 जनवरी को ही क्यों मानते है ? और राष्ट्रीय हिन्दी दिवस और विश्व हिंदी दिवस में क्या है अंतर

आज है विश्व हिंदी दिवस, जानें इसे 10 जनवरी को ही क्यों मानते है ? और राष्ट्रीय हिन्दी दिवस और विश्व हिंदी दिवस में क्या है अंतर

आज 10 जनवरी 2022 को विश्व हिंदी दिवस है। वर्ष 2006 में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह द्वारा 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के तौर पर हर वर्ष मनाए जाने की घोषणा की गयी थी। इसके बाद बाद से ही हिंदी दिवस को आज के दिन हर वर्ष मनाया जाता है। विश्व हिंद दिवस का उद्देश्य है पूरे विश्व में हिंदी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए जागरूकता फैलाना है । और इसे अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में विकसित करने किए हर स्तर पर कदम उठाया जाना है । विश्व हिंदी दिवस के मौके पर दुनियाभर में निबंध प्रतियोगिताओं सहित कई तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं साल 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन का उद्घाटन किया था. 1975 से भारत, मॉरीशस, यूनाइटेड किंगडम, त्रिनिदाद और और टोबैगो, संयुक्त राज्य अमेरिका जैसे विभिन्न देशों में विश्व हिंदी सम्मेलन का आयोजन किया गया. आपको बता दें, विश्व हिंदी दिवस पहली बार 10 जनवरी, 2006 को मनाया गया था. तब से यह हर साल 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है।

8 देशों में बोली जाती है हिंदी भाषा

हिंदी भाषा विश्व में अधिकतम जनसंख्या द्वारा बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। भारत के अतिरिक्त हिंदी भाषा नेपाल, मॉरीशस, गुयाना, सूरीनाम, त्रिनिदाद और टोबैगो और फिजी जैसे अन्य देशों में भी बोली जाती है।

आमतौर पर हर वर्ष 10 जनवरी को देश भर के विश्वविद्यालयों एवं अन्य उच्च शिक्षा संस्थानों के साथ-साथ स्कूली स्तर पर विश्व हिंदी दिवस के अवसर पर तरह-तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इनमें निंबध प्रतियोगिता, चर्चा, वाद-विदाद, आदि शामिल हैं। इसी प्रकार, केंद्र व राज्य सरकारों के विभिन्न विभागों में भी हिंदी में कामकाज को प्रेरित करने का संकल्प लिया जाता है। हालांकि, पिछले दो वर्षों से COVID-19 महामारी की स्थिति के कारण, लोग अपनी पसंदीदा कविताओं को पढ़कर या गाने गाकर वर्चुअल मोड में विश्व हिंदी दिवस के कार्यक्रमों का आयोजन करते हैं।

राष्ट्रीय हिन्दी दिवस और विश्व हिंदी दिवस में अंतर

हिन्दी दिवस और विश्व हिंदी दिवस को लेकर बहुत से लोगों में असमंजस होता है. दोनों ही दिवसों का का उद्देश्य हिंदी भाषा का प्रचार प्रसार करना है। राष्ट्रीय हिन्दी दिवस जहां 14 सितंबर को मनाया जाता है वहीं विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को मनाया जाता है। भारत की आजादी के बाद भाषा को लेकर बड़ा सवाल था क्योंकि भारत जैसे विविधता से भरे देश में कई प्रकार की भाषाएं और बोलियां बोली जाती हैं. काफी सोच विचार कर हिंदी और अंग्रेजी को नए राष्ट्र की भाषा चुना गया।
संविधान सभा ने देवनागरी लिपि में लिखी हिन्दी को अंग्रेजों के साथ राष्ट्र की आधिकारिक भाषा के तौर पर स्वीकार किया था. 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से हिंदी को भारत की राजभाषा चुना. पहला हिंदी दिवस 14 सितंबर 1953 में मनाया गया था ।

Read Also-

सौमैया कांबले ने जीता भारत का सर्वश्रेष्ठ डांसर सीजन -2 जीते 15 लाख, गौरव सरवन रहे फर्स्ट रनर-अप

UP Police Recruitment 2022: यूपी पुलिस में कांन्स्टेबल के पद पर आई बंपर भर्ती, जल्दी करें आवेदन

UP-पंजाब समेत 5 राज्यों में चुनाव की तारीखों का ऐलान, 10 मार्च को आएंगे नतीजे

 

अनुराग बघेल

एडिटर: अनुराग बघेल

मेरा नाम अनुराग बघेल है। मैं बिगत कई सालों से प्रिन्ट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़ा हूँ। पत्रकारिकता मेरा पैशन रहा है। फिलहाल मैं हिन्दुस्तान 18 हिन्दी में रिपोर्टर ओर कंटेंट राइटर के रूप में कार्यरत हूं।

Next Post

भारत को गौरवान्वित करने वाली 12 बेमिशाल महिलाएं, जिनके नाम से गूंजा साल 2021

Mon Jan 10 , 2022
भारत को गौरवान्वित करने वाली 12 बेमिशाल महिलाएं, जिनके नाम […]
error: Content is protected !!