10 जून विजय दिवस, जब बहराइच के राजा ने गाजर मूली की तरह काट डाले थे 20 हजार मुस्लिम आक्रमणकारी

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

10 जून/विजय-दिवस  पराक्रमी राजा सुहेलदेव के नाम

मुस्लिम आक्रमणकारी सालार मसूद को बहराइच (उत्तर प्रदेश) में उसकी एक लाख बीस हजार सेना सहित जहन्नुम पहुंचाने वाले राजा सुहेलदेव का जन्म श्रावस्ती के राजा त्रिलोकचंद के वंशज पासी मंगलध्वज (मोरध्वज) के घर में माघ कृष्ण 4, विक्रम संवत 1053 (सकट चतुर्थी) को हुआ था। अत्यन्त तेजस्वी होने के कारण इनका नाम सुहेलदेव (चमकदार सितारा) रखा गया। सालार मसूद गजनी का भांजा था। उसको पूर्णतः भूमिसात करने के कारण आने वाले 200 साल तक कोई मुस्लिम आक्रमणकारी भारत पर हमला करने का साहस नहीं कर सका।

महमूद गजनवी ने भारत में अनेक राज्यों को लूटा तथा सोमनाथ सहित अनेक मंदिरों का विध्वंस किया। उसकी मृत्यु के बाद उसका बहनोई सालार साहू अपने पुत्र सालार मसूद और कई क्रूर साथियों को लेकर भारत आया। बाराबंकी के सतरिख (सप्तऋषि आश्रम) पर कब्जा कर उसने अपनी छावनी बनायी।

यहां से पिता सेना का एक भाग लेकर काशी की ओर चला; पर हिन्दू वीरों ने उसे प्रारम्भ में ही मार गिराया। पुत्र मसूद अनेक क्षेत्रों को रौंदते हुए बहराइच पहुंचा। उसका इरादा बालार्क मंदिर को तोड़ना था; पर राजा सुहेलदेव भी पहले से तैयार थे। उन्होंने निकट के अनेक राजाओं के साथ उससे लोहा लिया।

वि.संवत 1091 के ज्येष्ठ मास के पहले गुरुवार के बाद पड़ने वाले रविवार (10.6.1034 ई.) को राजा सुहेलदेव ने उस आततायी का सिर धड़ से अलग कर दिया। दुर्भाग्य है कि हिन्दू समाज के शौर्य का यह इतिहास छिपाया जाता है। वास्तव में हिन्दू समाज का इतिहास गुलामी का नहीं सतत संघर्ष और विजय का है। यही हिन्दू समाज का मूल चरित्र भी है।

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

अच्छी लाइफस्टाइल को कैसे मैंटेन करे - How to maintain a best lifestyle in Hindi

Thu Jun 10 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. नमस्कार , आज मैं आपको बताने जा रही हूं। हमारी (Daily Routine) दिनचर्या कैसी होनी चाहिए? आज कल की भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में लोगों ने ज़िन्दगी को […]
error: Content is protected !!