10वीं में 48 बार फेल होने वाले विश्वरिकार्ड धारी ताऊ इस बार हुए पास

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

अजब गजब ख़बर –

सबसे ज्यादा बार 10वीं अनुत्तीर्ण होने का विश्व रिकार्ड बनाने वाले 85 वर्षीय शिवचरण ने बिना 10वीं पास किये शादी नहीं करने का लिया था प्रण, देखें विस्तार से

फेल होने का विश्व रिकॉर्ड बना चुके 50 वर्षे शिवचरण पास हो गए
दसवीं पास हुए 85 वर्षीय विद्यार्थी शिवचरण ताऊ

राजस्थान के अलवर के रहने वाले 85 वर्षीय शिवचरण यादव 10वीं पास होने के जुनून के लिए जाने जाते हैं। इस साल उनका ये जुनून पूरा भी हो गया है। इन्होंने शपथ लिया है कि ये जबतक 10वीं पास नहीं करेंगे तबतक शादी नहीं करेंगे। इस बार कोरोना की वजह से बगैर परीक्षा दिए वह पास हो गए हैं। 48 बार फेल होने वाले शिवचरण इस साल 10वीं पास हो गये हैं। अलवर जिले के रहने वाले शिवचरण राजस्थान बोर्ड ऑफ़ सेकंडरी एजुकेशन के लिए एक मिसाल हैं। शिवचरण के पास होने पर परिवारी जनों वह गांव के आसपास खुशी की लहर व्याप्त हो गई है। इन्होंने तय कर रखा था कि वह जबतक पास नहीं होंगे शादी नहीं करेंगे। उनका कहना है कि उम्र मायने नहीं रखती है। वह पहली बार 1968 में 10वीं की परीक्षा में बैठे थे। वह फेल हो गये। इसके बाद से हर बार वह परीक्षा देते रहे। किसी विषय में पास होते तो किसी में फेल हो जाते। गणित-विज्ञान में अच्छे नंबर मिलते तो हिंदी-अंग्रेजी में फेल हो जाते। यह लगातार हो रहा था।

साल 1995 में वह पास होने की कगार पर पहुंच गए थे। लेकिन, तब वह बार गणित में वह फेल हो गये थे। उस बार वह ट्यूशन भी पढ़े थे। वह अपने पैतृक आवास पर अकेले ही रहते हैं। उनका जीवन सरकार की तरफ से मिलने वाले वृद्धा पेंशन और मंदिर से मिलने वाले प्रसाद से ही उनका जीवन चलता है।

विश्व का सबसे अधिक बार फेल हुआ विद्यार्थी

इस साल कोरोना वायरस की वजह से राजस्थान सरकार ने निर्णय लिया कि बोर्ड परीक्षा में कोई भी स्टूडेंट फेल नहीं होगा। इसका फायदा विद्यार्थी शिवचरण को भी मिला और वह पास हो गये। अपने पास होने से उन्हें बहुत खुशी है।

Nisha Chaurasiya

एडिटर: Nisha Chaurasiya

Next Post

पीएचसी व एएनएम सेन्टरों की अक्रियाशीलता को लेकर डीएम सख्त

Sun Jun 20 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. गोंडा PRESS RELEASE डीएम ने चार अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारियों की लगाई ड्यूटी, व्हाट्सएप ग्रुप से होगी मॉनिटरिंग व समीक्षा डीएम मार्कण्डेय शाही ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान […]
error: Content is protected !!