VIVO के हटने के बाद अब कौन होगा IPL का टाइटल स्पॉन्सर?

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

चीन की मोबाइल कंपनी वीवो का बतौर IPL टाइटल स्पॉन्सर पत्ता काट दिया गया है, कई कंपनियां अब वीवो की जगह लेना चाह रही है।

नई दिल्ली – आईपीएल 2020 को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड पूरी तैयारियों में लगा हुआ है। इस दौरान बीसीसीआई ने आईपीएल सीजन 13 के टाइटल स्पॉन्सर के तौर पर चीनी मोबाइल कंपनी वीवो से किनारा कर लिया है। दरअसल हाल ही में भारत और चीन विवाद को लेकर भारत सरकार ने 59 चीनीं एप पर प्रतिबंध लगा दिया था। ऐसे आईपीएल को कई सालों से वीवो स्पॉन्सर करता आ रहा है और एक चीनी कंपनी भारतीय क्रिकेट की सबसे बड़ी लीग को स्पॉन्सर करे ये फैंस को गवारा नहीं था।

दर्शकों ने इस विषय का विरोध किया और आखिर में बीसीसीआई को फैंस की बात माननी पड़ी है। बुधवार को हुई बीसीसीआई बोर्ड की बैठक में वीवो को आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर से हटा दिया गया है। ऐसे में एक बड़ा सवाल निकल के आता है कि आखिरकार अब आईपीएल 2020 को कौन सी कंपनी स्पॉन्सर करेगी। हालांकि इस रेस में कई कंपनिया अपनी-अपनी दावेदारियां पेश करने में लगी हुई हैं।

खबर है कि वीवो के टाइटल स्पॉन्सर से हटाए जाने के बाद बीसीसीआई को बड़ी रकम का नुकसान उठाना पड़ सकता है लेकिन भारतीय क्रिकेट बोर्ड ने अपनी कमर कस ली है और विकल्प के तौर अन्य टाइटल स्पॉन्सर कंपनियों से 180 करोड़ तक के समझौते पर रजामंदी देने का मन भी बना लिया है। हालांकि यह भी कहा जा रहा है कि अगले साल वीवो बतौर IPL टाइटल स्पॉन्सर वापसी कर सकती है।

वहीं सूत्रों की मानें तो आईपीएल के नए टाइटल स्पॉन्सर की लिस्ट काफी लंबी है, जिसमें टीम इंडिया की जर्सी स्पॉन्सर कंपनी बायजूज (BYJU’S), माय सर्कल 11 (MYCIRCLE11), एमेजॉन (AMAZON), ड्रीम इलेवन (DREAM11) और अनएकेडमी (UNACADEMY) शामिल हैं। हालांकि आईपीएल टाइटल स्पॉन्सर की रेस में बायजूज और ड्रीम इलेवन को सबसे आगे माना जा रहा है, क्योंकि यह दोनों कंपनी पहले से बीसीसीआई के साथ जुड़ी हुई हैं। एक ओर बायजूज ने टीम इंडिया की जर्सी स्पॉन्सरशिप के तौर पर बोर्ड को 1079 करोड़ रूपए की भारी रकम अदा की थी तो वहीं दूसरी ओर ड्रीम इलेवन इंडियन प्रीमयर लीग (आईपीएल) का दूसरा आधिकारिक पार्टनर है जो हर सीजन 40 करोड़ की रकम अदा कर बीसीसीआई से करार करता है।

मुकेश कुमार

एडिटर: मुकेश कुमार

Hindustan18-हिंदी में सम्पादक हैं। किसान मजदूर सेना (किमसे) में राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी के पद पर तैनात हैं।

Next Post

नाबालिग लड़कियों से की जाती हर रोज दरिंदगी: खदानों में काम व मजदूरी के बदले जिस्म भी देना पड़ता है

Sat Aug 8 , 2020
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. ये उत्तर प्रदेश है या नरकलोक है? दिल्ली से सैकड़ों किलोमीटर दूर बुंदेलखंड के चित्रकूट में, जहां गरीबों की नाबालिग बेटियां खदानों में काम करने के लिए मजबूर […]
error: Content is protected !!