भारत सरकार द्वारा जारी कोविन एप्प एवं पोर्टल क्या है ? सरकार ने इस एप्प को डाउनलोड करना क्यों किया अनिवार्य

भारत सरकार द्वारा जारी  कोविन एप्प एवं पोर्टल क्या है ? सरकार ने इस एप्प को डाउनलोड करना क्यों किया अनिवार्य

भारत सरकार द्वारा कोविड-19 रोलआउट के लिए एक खास एप्लीकेशन तैयार कर दिया गया है जिसे नाम दिया गया Cowin  एक ऐसा एप्लीकेशन जो कोविड-19 के टीकाकरण अभियान में अपना महत्वपूर्ण योगदान देगा। इस एप्लीकेशन के जरिए भारत सरकार भारत में आई कोरोना की वैक्सीन के बारे में संपूर्ण जानकारी प्राप्त कर सकेग। जैसे कोरोना वैक्सीन का स्टॉक, डिस्ट्रीब्यूशन, स्टोरेज आदि। साथ ही इस एप्लीकेशन में यह बात भी रिकॉर्ड की जाएगी की किस मरीज को टीका लगाया जा चुका है और उसे दोबारा टीकाकरण कब होगा। इन सभी बातों का शेड्यूल एप पर पहले से ही मिल जाएगा।
इस एप्लीकेशन के अलग-अलग डाटा केंद्र भी बनाए जाएंगे जो विभिन्न राज्यों में खुद के डाटा केंद्र होंगे जो वहां की एजेंसियों के द्वारा ही अपडेट किए जाएंगे। देश भर में लगभग 28000 कोरोना वैक्सीन के स्टोरेज बनाए गए हैं। इस एप्लीकेशन में टेंपरेचर लोगेर्स, वैक्सीन डेप्लॉयमेंट और कोल्ड चैन मैनेजर सभी प्रकार के फीचर्स होंगे। इस एप्लीकेशन के बारे में और अधिक विस्तार पूर्वक जानकारी के लिए आगे पढ़े –

Cowin पोर्टल क्या है ?

केंद्र सरकार द्वारा लांच किया गया है Cowin पोर्टल है. इस पोर्टल में खुद को रजिस्टर करके देश पात्र व्यक्ति इसमें अपना रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं और कोरोना महामारी से लड़ने के लिए बनाई गई वैक्सीन को लगवा सकते हैं।

Cowin पोर्टल के जरिये रजिस्ट्रेशन

सबसे पहले कोविन पोर्टल में जाइये और होम पेज में ही आपको रजिस्टर या साइन इन करने का विकल्प दिखाई देगा आपको उस पर क्लिक करे अपना मोबाइल नंबर डालना है जिसके बाद आपके फोन में एक ओटीपी का एसएमएस आयेगा. उसे आपको फिर वहां इंटर करना है.
इसके बाद आपको कुछ जानकारी भरनी होगी जैसे कि नाम, आईडी प्रूफ, जेंडर, जन्म का साल आदि।इसके बाद सबमिट बटन पर क्लिक करते ही आपका रजिस्ट्रेशन पूरा हो जायेगा. इसके बाद आप अपना अपोइंटमेंट शेड्यूल कर सकते हैं. इसके लिए आपको वहां पर शेड्यूल का विकल्प दिखाई देगा उस पर क्लिक करना है.फिर आपको अपने एरिया या जिले का पिन कोड नंबर भरना होगा। इसके बाद आपके एरिया में जितने भी वैक्सीनेशन सेंटर है सभी की लिस्ट खुल जाएगी साथ ही किस सेंटर में कितने स्लॉट बुक हो गए हैं और कितने खाली है यह भी शो होगा.यहाँ से आप अपने ऐज ग्रुप, वैक्सीन के प्रकार एवं वैक्सीनेशन सेंटर का चुनाव कर सकते हैं. और उसके अनुसार अपना क्लॉट बुक कर सकते हैं.स्लॉट बुक हो जाने के बाद एक ओटीपी आपके फोन में आयेगा. ये ओटीपी आपको वैक्सीनेशन सेंटर में दिखाना होगा.

कोविन पोर्टल में वैक्सीन का चुनाव विकल्प

हाल ही में कोविन एप्प एवं पोर्टल के जरिये कोरोना वैक्सीनेशन के रजिस्ट्रेशन में लोगों को कुछ गड़बड़ियों का सामना करना पड़ रहा है. जैसे कि लोगों के वैक्सीन न लगने के बावजूद भी उन्हें मैसेज आ रहा है कि उन्हें वैक्सीन लग चुकी है. इसकी शिकायत होने के बाद इस पर 2 बदलाव किये गया हैं. जोकि इस प्रकार है –

पहला बदलाव यह किया गया है कि जब कोई व्यक्ति वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन कर अपोइंटमेंट लेता हैं, तो उसके बाद उसके फोन पर एक ओटीपी आयेगा. यह 4 नंबर का ओटीपी होगा. इसे उस व्यक्ति को वैक्सीनेशन सेंटर में दिखाना होगा. इससे यह सत्यापित हो जायेगा कि अपोइंटमेंट उसके द्वारा ही बुक किया गया है.

दूसरा बदलाव इसके डैश बोर्ड में किया गया हैं. दरअसल जब आप अपोइंटमेंट लेते समय अपन पिनकोड एवं जिला सेलेक्ट करते हैं. तो उसके बाद आपको 6 नए विकल्प दिखाई देंगे। जिसमें एक विकल्प होगा वैक्सीन के प्रकार का चयन. इस विकल्प के जरिये अब लोग यह चुनाव कर सकते हैं कि उन्हें कौन सी वैक्सीन लगवानी है कॉविडशील्ड या फिर कोवैक्सीन
.
वैक्सीन के दोनों डोज़ लगने के बाद मिलेगा सर्टिफिकेट

कोरोना वैक्सीन आने के बाद यह खुलासा हुआ है कि वैक्सीन के दो डोज़ प्रत्येक व्यक्ति को लगाए जाएंगे। इस एप्लीकेशन के जरिए लोगों को लगने वाला कोरोना के टीके का शेड्यूल लोकेशन एवं यह जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं कि उन्हें वह टिकट कौन लगाएगा। यदि किसी व्यक्ति को कोरोना वैक्सीन की 2 डोज़ लगाई जा चुकी है तो इस एप्लीकेशन के जरिए उनके नाम पर एक सर्टिफिकेट जनरेट हो जाएगा। उस सर्टिफिकेट को इस एप्लीकेशन की प्रक्रिया के हिसाब से डिजिटल लॉकर में सेव कर दिया जाएगा।

प्रायरिटी ग्रुप का डाटा होगा उपलब्ध

कोविन एप्लीकेशन के अंतर्गत चार प्रकार के प्रायरिटी ग्रुप निर्धारित किए जाएंगे जिनमें हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर्स, 50 साल से ज्यादा उम्र के लोग एवं गंभीर बीमारियों से जूझने वाले लोग शामिल किए गए हैं। इस एप्लीकेशन के अंतर्गत प्रत्येक जिले में मौजूद सरकारी एवं निजी अस्पतालों में काम करने वाले व्यक्तियों का डाटा भी फिट किया जा सकेगा। इसके साथ साथ उन्हें अप्रूवल के बाद ही कोरोना वैक्सीन की डोज दी जाएगी।

वैक्सीन लगने के बाद तापमान में होने वाले बदलाव पर रखेगा ध्यान

इस एप्लीकेशन के जरिए सरकार स्टोरेज पॉइंट पर तापमान में बदलाव को भी ट्रैक करने में सक्षम हो पाएगी। वैक्सीन के रखरखाव में यह एक बहुत अहम चरण है क्योंकि वैक्सीन के इस्तेमाल से पहले इस को सुरक्षित रखना बेहद आवश्यक है। कोविन ऐप के जरिए वैक्सीन के स्टोरेज फैसिलिटी के हेल्थ सेंटर से लेकर डिस्ट्रिक्ट हॉस्पिटल एवं टीकाकरण केंद्र पर मौजूद सभी वैक्सीन का हिसाब किताब रखा जाएगा। यदि कहीं पर भी वैक्सीन खत्म होने वाली है या स्टाफ कम पड़ने वाला है तो उसका नोटिफिकेशन एप्लीकेशन पर पहले ही आ जाएगा।

कोरोनावायरस ने साल 2020 के दौरान भारत समेत कई सारे देशों के लोगों का जीना मुहाल कर रखा था। साल 2021 की शुरुआत में ही लोगों को कोरोनावायरस इन से जुड़ी अच्छी खबर सुनने को मिली है। भारत के नागरिकों को भी इस बात का विश्वास है कि जल्द ही उन तक कोरोनावायरस इन पहुंच जाएगी। हालांकि केंद्र सरकार ने इस पर काम प्रारंभ भी कर दिया है केंद्र सरकार वैक्सीन निर्माताओं से ही वैक्सीन खरीद कर भारत के प्रत्येक राज्य एवं क्षेत्र तक पहुंचाने का काम करेगी और शीघ्र ही सब लोगों तक यह दवाई पहुंच जाएगी जिसके बाद कोरोनावायरस काफी हद तक कम हो पाएगा। 2020 के अंत एवं 2021 की शुरुआत में यह लोगों के लिए सबसे ज्यादा आरामदायक खबर है।

यह भी पढ़ें  सूर्यवंशी’ से लेकर सलमान खान की ‘वीर’ के प्रोड्यूसर विजय गलानी का लंदन में हुआ निधन, ब्लड कैंसर से थे पीड़ितमिस यूनिवर्स 2021

हरनाज़ संधू के बारे मे दिलचस्प जानकारी

पूर्व भारतीय क्रिकेटर के इरफान पठान दुसरी बार बने पिता, ट्वीट पर तस्वीर शेयर कर फैन्स को दी खुशखबरी

अनुराग बघेल

एडिटर: अनुराग बघेल

मेरा नाम अनुराग बघेल है। मैं बिगत कई सालों से प्रिन्ट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़ा हूँ। पत्रकारिकता मेरा पैशन रहा है। फिलहाल मैं हिन्दुस्तान 18 हिन्दी में रिपोर्टर ओर कंटेंट राइटर के रूप में कार्यरत हूं।

Next Post

दीमक को जड़ से खत्म कर देंगे ये 5 घरेलू उपाय, जिस से नहीं होगी कीमती फर्नीचर और दरबाजो की बर्बादी

Thu Dec 30 , 2021
दीमक को जड़ से खत्म कर देंगे ये 5 घरेलू […]
error: Content is protected !!