कोरोना वैक्सीन लगवा कर लौट रही महिला की रास्ते में ही मौत

पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें..

गुना: खबर गुना से हैं जहां पर कोरोना वैक्सीन को लगवा कर घर लौट रही महिला की रास्ते में ही मौत हो गई।

गुना में वैक्सीन का दूसरा डोज लगवाकर लौट रही वृद्धा की 45 मिनट बाद मौत हो गई। 83 वर्ष की महिला को आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर से वैक्सीन लगवाने लेकर गई थी। लौटते वक्त उनकी तबीयत बिगड़ी तो कार्यकर्ता रास्ते में छोड़ गई। उनके बेटे को वह रास्ते में बदहवास स्थिति में मिलीं। वे उन्हें लेकर पहले टीकाकरण केंद्र पहुंचे, जहां से उन्हें जिला अस्पताल लाया गया। डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। बेटे ने वैक्सीनेशन में लापरवाही का आरोप लगाया है।

कोरोना वैक्सीन लगवा कर लौटी महिला की मौत
शांति बाई की फाइल फोटो

सोमवार सुबह करीब 11:30 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सीमा धाकड़ नजूल कॉलोनी निवासी शांतिबाई को उनके घर से लेकर सरस्वती शिशु मंदिर स्थित टीकाकरण केंद्र पहुंची। यहां उन्होंने अपने ही मोबाइल नंबर से रजिस्ट्रेशन कराया। बुजुर्ग महिला को पहला डोज भी इसी नंबर से लगा था। नर्स रीमा ने सुबह 11:56 पर उन्हें कोवीशील्ड का दूसरा डोज लगाया।

कुछ समय वहां बैठने के बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ता उन्हें पैदल ही लेकर घर के लिए चली गई। बीच रास्ते में महिला की तबीयत खराब हुई, तो कार्यकर्ता उन्हें बीच रास्ते में छोड़कर चली गई। महिला का बेटा घनश्याम शर्मा इस दौरान अस्पताल से अपने घर की ओर आ रहा था तो उन्हें मां बदहवास मिलीं। उन्हें पता चला कि मां को वैक्सीन लगवाने के लिए ले गई थी, जिसके बाद कार्यकर्ता उन्हें बीच रास्ते में ही छोड़कर चली गई।

11 अप्रैल को लगा था पहला टीका

घनश्याम शर्मा ने बताया कि वे होटल पर काम करते हैं। उनकी मां शांतिबाई को 11 अप्रैल को कोवीशील्ड का पहला डोज लगा था। आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने उन्हें टीकाकरण केंद्र ले जाकर वैक्सीन लगवाई थी। सोमवार को हम दोनों भाई होटल पर काम करने गए थे। इसी दौरान, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सीमा धाकड़ उन्हें वैक्सीन का दूसरा डोज लगवाने के लिए लेकर गईं। इसकी जानकारी हमें नहीं दी गई।

घनश्याम शर्मा ने कहा मैं बदहवास मां को रास्ते से उठाकर टीकाकरण केंद्र ले गए। वहां मौजूद नर्सों से कहा कि इनकी तबीयत खराब लग रही है। इनका कुछ इलाज करो।

नर्सों ने बताया, यहां डॉक्टर मौजूद नहीं हैं। इसके बाद एम्बुलेंस को बुलाया गया। वे अपनी मां को एम्बुलेंस से लेकर जिला अस्पताल पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। शव को पोस्टमाॅर्टम के लिए भिजवा दिया। तीन डॉक्टरों के पैनल द्वारा पीएम किया जाएगा। डॉक्टरों के अनुसार, 12:30 से 1 बजे के बीच महिला की मौत हो गई थी। उन्हें जब अस्पताल लेकर पहुंचे, तब उनकी मौत हो चुकी थी।

हालांकि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ऐसी घटना से इनकार कर रही हैं। उनका कहना है, उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है। पहले डोज के टाइम उनकी ड्यूटी टीका लगवाने के लिए लगी थी तब शांतिबाई को नंबर याद नहीं था, तो उन्होंने अपना नंबर दे दिया था। आज भी वह उन्हें टीका लगवाने लेकर नहीं गई। कार्यकर्ता के अनुसार, बुजुर्ग महिला पड़ोसियों के साथ ही टीका लगवाने गई थीं।

हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

एडिटर: हिन्दुतान 18 न्यूज़ रूम

यह हिन्दुतान-18.कॉम का न्यूज़ डेस्क है। बेहतरीन खबरें, सूचनाएं, सटीक जानकारियां उपलब्ध करवाने के लिए हमारे कर्मचारियों/ रिपोर्ट्स/ डेवेलोपर्स/ रिसचर्स/ कंटेंट क्रिएटर्स द्वारा अथक परिश्रम किया जाता है।

Next Post

क्या आप भी हैं, परेशान स्किन एलर्जी की समस्या से, तो अपनाये ये घरेलु उपचार और पाये हमेंशा के लिए छुटकारा

Tue Jul 6 , 2021
पढ़ना नहीं चाहते? तो इसे सुनें.. कई लोगों की त्वचा में कुछ चीज के संपर्क में आने से एलर्जी हो जाती है। यानी कि किसी चीज, सामान, धूल-मिट्टी, धूप की तेज रोशनी, व अन्य […]
error: Content is protected !!